साक्ष्यों के आधार पर जांच में जुटी पुलिस।

लखनऊ। यूपी के कौशांबी में सिराथू विधानसभा क्षेत्र के उदहिन खुर्द बाजार में विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बेटे योगेश मौर्य और कुछ ग्रामीणों के बीच नोकझोक के साथ मारपीट की घटना हुई थी। इस मामले पर पिछले हफ्ते ही योगेश मौर्य ने मारपीट और अन्य मामलों में एसपी हेमराज मीणा को तहरीर दी थी और अब एसपी के आदेश पर दो महीने बाद इस मामले में 23 नामजद एवं 25 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।  पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है।

डिप्टी सीएम के बेटे योगेश मौर्य का आरोप है कि वो अपने पिता और बीजेपी प्रत्याशी केशव प्रसाद मौर्य के पक्ष में अपने समर्थकों के साथ 24 फरवरी को मोहब्बतपुर पइंसा कोतवाली क्षेत्र के उदहिन में प्रचार करने गए थे। उदहिन के पास दर्जनों की संख्या में लोग आए और उनके प्रचार का विरोध करने लगे और जब उन्होंने विरोध का कारण पूछा तो उनके साथ गाली गलौज हुई और मारपीट की गई। आरोप है कि इस झगड़े में योगेश मौर्य की सोने की चेन और जेब में रखे हुए पैसे भी लूट लिए गए। इसकी सूचना पुलिस को दिए जाने के बाद सिराथू सीओ योगेंद्र कृष्ण नारायण कई थानों की फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और किसी तरह से भीड़ में फंसे योगेश मौर्य को बाहर निकाला और मामला शांत कराया। चुनावी माहौल के कारण इस मामले में कार्रवाई नहीं हो सकी थी। इसलिए योगेश मौर्य ने मामले की शिकायत शनिवार को उच्चअधिकारियों से की है। जिसके बाद एसपी हेमराज मीणा के आदेश पर पुलिस ने 23 नामजद सहित 25 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू दी गई है।

सपा कार्यकर्ताओं पर मारपीट का आरोप

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के बेटे योगेश मौर्य के पिटाई के मामले में माहौल तब बिगड़ा था, जब चुनाव प्रचार के दौरान लाल गमछा सिर पर बांधे दो युवकों ने समाजवादी पार्टी जिंदाबाद के नारे लगाए गए थे और बीजेपी समर्थकों ने युवकों की पिटाई करते हुए खदेड़ दिया था। जिसके बाद युवकों ने गांव जाकर ग्रामीणों को जानकारी दी थी। इसके बाद दर्जनों लोग वहां आ गए थे तभी उन लोगो के बीच नोकझोंक के साथ हाथापाई हुई। मामले की जानकारी होते ही सपा विधायक पल्लवी पटेल भी मौके पर पहुंची थी। फिलहाल चुनावी माहौल होने के कारण उस समय कोई कार्रवाई नहीं हुई थी और न ही दोनों दलों के लोगों ने मामले को तूल दिया था।

साक्ष्यों के आधार पर जांच में जुटी पुलिस

अपर पुलिस अधीक्षक समर बहादुर ने बताया दिनांक 23 अप्रैल को योगेश मौर्य की तहरीर पर मोहब्बतपुर पइंसा थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है। इस मामले में साक्ष्य के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। योगेश मौर्य ने कहा कि उन्होंने चुनावी माहौल को देखते हुए किसी प्रकार का कोई विवाद नहीं किया और ना ही मुकदमा दर्ज करने के लिए तहरीर दी, लेकिन अब जब चुनाव खत्म हो गया और मेरे पिता चुनाव हार गए तो इसको लेकर सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणियां होने लगी। इसलिए इतने दिनों बाद मजबूर होकर उन्हें आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाना पड़ा। उन्होंने कहा कि इसमें कई नौजवान युवक भी शामिल हैं, जिनका भविष्य बर्बाद हो सकता है। 

पूरी स्टोरी पढ़िए