कोर्ट ने निर्देश दिया कि किसी भी थाने में शिकायत की जा सकती है।

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के ललितपुर स्थित पाली थाने में नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म के मामले पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने संज्ञान लिया है। हाईकोर्ट ने निर्देश दिया कि बिना थानाध्यक्ष की मंजूरी के पूछताछ के लिए किसी को थाने में नहीं बुलाया जा सकता है। अभियुक्त को भी बुलाने के लिए थाना प्रभारी की अनुमति आवश्यक होगी। किसी भी थाने में शिकायत की जा सकती है।

उच्च न्यायालय इलाहाबाद के न्यायमूर्ति अरविंद कुमार मिश्रा और न्यायमूर्ति मनीष माथुर की बेंच ने सुनवाई करते हुए निर्देश दिया कि किसी की पुलिस स्टेशन में शिकायत की जा सकती है, जिसमें जांच की आवश्यकता होती है और आरोपी की उपस्थिति, अपराधिक प्रक्रिया संहिता के प्रावधानों के तहत निर्धारित कार्रवाई का उपयुक्त तरीका है, जिसका पालन किया जाना चाहिए। वहीं दूसरी तरफ जो ऐसे व्यक्ति को लिखित नोटिस देने पर विचार करता है, लेकिन मामला दर्ज होने के बाद ही किसी भी आरोपी को बुलाया जाना चाहिये।

पूरी स्टोरी पढ़िए