एक अक्टूबर से 5 अक्टूबर तक पूजा।

लखनऊ। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के क्राइम कंट्रोल और अवैध निर्माण को ध्वस्त करने वाला बुलडोजर अब शारदीय नवरात्र में दुर्गा पंडाल में भी नजर आ रहा है।  राजधानी लखनऊ शहर की एक दुर्गा पूजा इन दिनों सुर्खियों में छाई है। इसकी वजह ये है कि यहां पर शेर पर सवार दुर्गा मां को बुलडोजर पर सवार दिखाया गया है।

लखनऊ में कैंट पूजा समिति ने न सिर्फ पंडाल में इसे लगाया बल्कि दुर्गा प्रतिमा के पास इसको लगा कर एक संदेश देने की कोशिश की है। साथ ही एक खास स्लोगन दिया गया है माँ दुर्गा का नया अस्त्र ‘बुल्डोजरास्त्र’ है।

राक्षसों के दमन का प्रतीक बुलडोजर

संदेश देते हुए लिखा गया है कि ये माता का नवीनतम दिव्यास्त्र है जिससे वो कलयुगी राक्षसों का दमन करेंगी। शारदीय नवरात्र में सार्वजनिक पूजा पंडालों में षष्ठी तिथि से दुर्गा मूर्तियों की पूजा होती है। बुलडोजर को असुरी शक्तियों और राक्षसों के दमन का प्रतीक बनाया गया है। माता अपने इस दिव्यास्त्र से कलियुग के राक्षसों का दमन करेंगी।  

एक अक्टूबर से 5 अक्टूबर तक पूजा

पूजा सदर बाजार में कैंटोनमेंट पूजा और सेवा समिति की ओर से लगाई गई है। जिसे श्री श्री दुर्गा पूजा 2022 का भी नाम दिया गया है। इस दुर्गा पूजा का पंडाल भव्य है। ये पूजा एक अक्टूबर से लेकर 5 अक्टूबर तक चलेगी। जिसमें दुर्गा पूजा के साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे।

आकर्षण का केंद्र बनने वाला है बुलडोजर

फिलहाल दुर्गा पूजा में बुलडोजर भी एक आकर्षण का केंद्र बनने वाला है। पूजा समिति सेजुड़े लोगों का कहना है कि इसकी प्रेरणा यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ हैं। पूजा समिति के मीडिया सेक्रेटरी का कहना है कि ‘जिस तरह से अवैध निर्माण और अपराधियों को एक कड़ा संदेश देने की कोशिश सीएम योगी आदित्यनाथ ने की है वो अपने आप में न्याय की बात करने वाला है’। 

पूरी स्टोरी पढ़िए