दिल्ली के एक हजार से ज्यादा सरकारी स्कूलों के इन छात्रों ने अपने 51,000 से ज्यादा बिजनेस आइडिया पर काम शुरू कर दिया है।

नई दिल्ली। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में चल रहे बिजनेस ब्लास्टर्स कार्यक्रम के शुरू होने के दो महीने के अंदर 3 लाख स्टूडेंट्स को इससे जोड़ा जा चुका है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया के अनुसार, दिल्ली के एक हजार से ज्यादा सरकारी स्कूलों के इन छात्रों ने अपने 51,000 से ज्यादा बिजनेस आइडिया पर काम शुरू कर दिया है। उन्हें अब तक 60 करोड़ रुपये की सीड मनी दी जा चुकी है।

 दिल्ली सरकार के स्कूलों में 11वीं और 12वीं कक्षा के लिए आंत्रप्रेन्योरशिप माइंडसेट करिकुलम के तहत सितंबर में सभी सरकारी स्कूलों में बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्राम शुरू किया गया, जिसके तहत स्टूडेंट्स में आंत्रप्रेन्योर बनने के गुण विकसित किए जा रहे हैं। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का कहना है कि बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्राम दुनिया के सबसे बड़े स्टार्टअप कार्यक्रमों में से एक है। इसे हमारे स्कूलों के छात्रों से शानदार प्रतिक्रिया मिल रही है। छात्रों को 2,000 रुपये की सीड मनी दी जाती है ताकि वे अपना एंटरप्राइज शुरू कर सकें। छात्रों को 60 करोड़ रुपये की सीड मनी दी गई है।

 गैस रिसाव को रोकने के लिए तैयार किया अलार्म

इस कार्यक्रम के तहत 99 प्रतिशत छात्र टीम के साथ अपने बिजनेस आइडिया को विकसित करना पसंद करते हैं। सिसोदिया ने कहा कि यह बहुत खुशी की बात है क्योंकि हमारे बच्चे टीम भावना, टीम वर्क और नेतृत्व जैसे कौशल सीख रहे हैं। उदाहरण के लिए हाल ही में स्टूडेंट्स के एक ग्रुप ने गैस रिसाव को रोकने के लिए अलार्म तैयार किया। इसी तरह एक और शानदार प्रोजेक्ट पेसो इलेक्ट्रिक स्टेयर्स छात्र निशांत पांडे ने शुरू किया, जो प्रेशर और इम्पैक्ट के माध्यम से विद्युत प्रवाह उत्पन्न करता है। इस प्रोटोटाइप को सीढ़ियों पर लगाकर केवल चलने भर से इस पर लगी लाइट्स को जला सकते हैं। इसी तरह डिवाइन क्रिएशंस नाम के प्रोजेक्ट में छात्रों ने मधुबनी पेंटिंग जैसी कलाकृतियां ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर बेचकर महज 4,000 रुपये की सीड मनी से 28,300 रुपये का मुनाफा कमाया।

इन प्रोग्रामों को किया जाएगा शामिल

मनीष सिसोदिया ने बताया कि हम एक हजार बिजनेस कोर्स को भी इस प्रोग्राम में शामिल करने जा रहे हैं। उनमें आंत्रप्रेन्योरर्स, बिजनेस ओनर्स, कंसल्टेंट और सब्जेक्ट मैटर एक्सपर्ट होंगे, जो स्टूडेंट्स को गाइड करेंगे और उनके बिजनेस आइडिया को बेहतर बनाने में उनकी मदद करेंगे। साथ ही, लाइव आंत्रप्रेन्योर इंटरैक्शन (एलईआई) के माध्यम से स्टूडेंट्स को नामी आंत्रप्रेन्योर्स से बातचीत करने और उनके सफर से सीखने का मौका दिया जाता है। डिप्टी सीएम ने कहा कि प्रोजेक्ट के आधार पर स्टेट लेवल कॉम्पिटिशन में भाग लेने के लिए लगभग 1 हजार बिजनेस आइडियाज को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। आने वाले समय में बिजनेस ब्लास्टर्स कार्निवल का आयोजन किया जाएगा। टॉप 100 प्रोजेक्ट की प्रदर्शनी लगाई जाएगी।

पूरी स्टोरी पढ़िए