हाईस्कूल में 88.18 प्रतिशत व इंटर में 85.33 प्रतिशत परीक्षार्थियों ने सफलता प्राप्त की है।

डेली जनमत न्यूज डेस्क। यूपी बोर्ड परीक्षा 2022 के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। हाईस्कूल में 88.18 प्रतिशत व इंटर में 85.33 प्रतिशत परीक्षार्थियों ने सफलता प्राप्त की है। ऐसे में फेल होने या कम अंक पाने वाले छात्रों की चिंता और बढ़ गई है, लेकिन फिर भी उनके पास दो विकल्प हैं। स्टूडेंट्स कंपार्टमेंट एग्जाम और स्क्रूटनी से कॉपी रिचेकिंग करावाकर या दोबारा परीक्षा देकर अपना रिजल्ट बेहतर कर सकते हैं।   

यूपी बोर्ड की परीक्षा में पास होने वाले स्टूडेंट्स को अगर परीक्षा में प्राप्त अंक उम्मीद से कम लगते हैं तो छात्र कॉपियों की दोबारा जांच करवा सकते हैं। इसके बाद उनकी कॉपी को नए तरीके से दोबारा चेक किया जाता है। यदि अंकों के योग में कोई गलती हो जाती है तो उस विद्यार्थी के अंक बढ़ जाते हैं। स्क्रूटनी के लिए छात्रों को आवेदन करना होता है और जिस विषय की कॉपी चेक करानी होती है उसकी फीस भी जमा करना पड़ता है।

कंपार्टमेंट परीक्षा देने का विकल्प  

वहीं, परिणाम घोषित होने के बाद, एक या दो विषयों में फेल होने वाले छात्रों के पास कंपार्टमेंट परीक्षा देने का विकल्प होता है। दोबारा परीक्षा देने से पूरा एक साल बचाया जा सकता है। रिजल्ट जारी होने के बाद कंपार्टमेंट और स्क्रूटनी दोनों की जानकारी बोर्ड की ओर से दी जाएगी। उसके बाद छात्र आवेदन कर सकते हैं और कंपार्टमेंट परीक्षा दे सकते हैं। यूपी बोर्ड रिजल्ट 2022 में तीन लाख से ज्यादा छात्र 12वीं के रिजल्ट में फेल हुए हैं। ऐसे में यह विकल्प इनमें से कई छात्रों के काम आ सकता है।

पूरी स्टोरी पढ़िए