योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी और 6 बागी विधायकों समेत कई नेताओं ने सपा का दामन थाम लिया है।

UPElections2022: साइकिल पर सवार हुई 'स्वामी की टीम', योगी सरकार पर बोला हमला ।Daily Janmat news।।

लखनऊ। यूपी में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है। वैसे-वैसे सियासी तापमान बढ़ता जा रहा है। पिछले दिनों बीजेपी छोड़ने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। उनके साथ धर्म सिंह सैनी और 6 बागी विधायकों समेत कई नेताओं ने भी सपा का दामन थाम लिया है। अखिलेश यादव ने मंच पर पहुंचकर सबको पार्टी की सदस्यता दिलाई है।

सपा में शामिल होने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति का पर्व बीजेपी के खात्मे के लिए इतिहास रचने जा रहा है। अखिलेश युवा हैं और पढ़े-लिखे हैं। उन्होंने कहा कि जिसका साथ मैं छोड़ता हूं,उसका अता-पता नहीं रहता। इसका उदाहरण बहनजी हैं। उनको भी घमंड हो गया था। वो बाबा भीमराव और काशीराम को भूल गईं। परिवर्तन आंदोलन के नारे को ही बदल दिया और थैली वालों के पीछे खड़ी हो गईं। इस पर मैंने साथ छोड़ा तो देख लीजिए उनका क्या हश्र हुआ।  

केशव और स्वामी का नाम लेकर बनाई थी सरकार 

इस दौरान स्वामी प्रसाद ने कहा कि बीजेपी ने केशव मौर्य और स्वामी मौर्य का नाम लेकर सरकार बनाई थी। चर्चा थी कि केशव या स्वामी सीएम होंगे, लेकिन जो हुआ वो सभी के सामने है। पहले गाजीपुर से स्काईलैंप उतारने का प्रयास किया गया। जब बीच रास्ते में वो स्काईलैंप ब्लास्ट हो गया, तो दूसरा स्काईलैंप गोरखपुर से लाकर पिछड़ों की आंखों में धूल झोंक दी गई।

85 तो हमारा है और 15 में भी बंटवारा है

स्वामी प्रसाद ने कहा कि कुंभकर्ण की नींद सो रहे बीजेपी के लोगों को अब नींद नहीं आ रही है। पहले उन्होंने हमारी एक बात नहीं सुनी। बीजेपी के कुछ लोगों का कहना है कि मैंने पांच साल तक इस्तीफा क्यों नहीं दिया। कुछ का कहना है कि बेटे के चक्कर में बीजेपी को छोड़ दिया है। मैं बताना चाहता हूं कि बीजेपी ने गरीबों, पिछड़े, दलितों और अल्पसंख्यकों की आंखों में धूल झोंककर सत्ता हासिल की थी। मौर्य ने आगे कहा सरकार बनाएं दलित-पिछड़े और मलाई खाएं अगड़े। वो भी जो 5 फीसदी हैं। अब 80 और 20 की लड़ाई नहीं बल्कि 15 और 85 की लड़ाई होगी। 85 तो हमारा है और 15 में भी बंटवारा है।

अब तक ये दे चुके हैं इस्तीफा

नाम                                                 सीट

स्वामी प्रसाद मौर्य                पडरौना, कुशीनगर

धर्म सिंह सैनी                       नकुड़, सहारनपुर

भगवती सागर                             बिल्हौर

रोशनलाल वर्मा                          तिलहर

विनय शाक्य                            बिधूना, औरैया

अवतार सिंह भड़ाना                  मीरापुर

दारा सिंह चौहान                     मधुबन, मऊ

बृजेश प्रजापति                       तिंदवारी, बांदा

मुकेश वर्मा                             शिकोहाबाद, फिरोजाबाद

दिग्विजय नारायण चौबे           खलीलाबाद

बाला प्रसाद अवस्थी             धौरहरा, लखीमपुर

राकेश राठौर                                सीतापुर

माधुरी वर्मा                             नानपारा, बहराइच

आरके शर्मा                               बिल्सी, बदायूं

पूरी स्टोरी पढ़िए