बुजुर्ग की हालत को देखते हुए लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

फर्रुखाबाद। उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के शमसाबाद में अपने खेत बेचकर ट्रैक्टर खरीदने की मांग पूरी नहीं करने पर बेटे ने पिता पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। वह जान बचाने के लिए दौड़ा तो बेटा भी चपेट में आ गया। पड़ोसियों ने आग पर काबू पाया और दोनों को सीएचसी में भर्ती कराया। वहां से बुजुर्ग पिता की हालत को देखते हुए लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया गया है। 

शमसाबाद के मोहल्ला अकबरपुर दामोदर के रहने वाले जौहरी लाल यादव (61) के चार बेटे थे। कुछ महीने पहले ही एक बेटे ऋषि पाल की मौत हो गई थी। उसका बड़ा बेटा राजेंद्र पिछले कुछ दिनों से अपने पिता से खेत बेचकर ट्रैक्टर खरीदने की मांग कर रहा था। इस पर पिता जौहरी लाल ने बताया कि वह मेहनत कर पैसे कमाएं और फिर ट्रैक्टर खरीद ले। उन्होंने जमीन बेचने से मना कर दिया। इससे नाराज होकर राजेंद्र ने शनिवार सुबह करीब सात बजे अपने पिता को कमरे में बंद कर दिया और पेट्रोल डालकर आग लगा दी। 

बुजुर्ग की हालत गंभीर

कपड़ों में आग लगने पर पिता जौहरी लाल कमरे से बाहर भागे तो राजेंद्र भी आग की चपेट में आ गया। शोर सुनकर परिवार के अन्य सदस्य और पड़ोसी आ गए। उन्होंने आग बुझाई और दोनों को सीएचसी भेज गया। उनकी हालत गंभीर होने पर जौहरी लाल को लोहिया अस्पताल रेफर कर दिया गया। परिवार के लोग उसे लोहिया अस्पताल ले गए। वहीं राजेंद्र सीएचसी में भर्ती है। क्षेत्र के लोगों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और जांच पड़ताल की। जौहरी के बाकी दो बेटे रामवरन और डब्लू भी खेती करते हैं। जौहरी की पत्नी पिछले छह साल से अपने रिश्तेदारी में रह रही है। 

शिकायत मिलने पर दर्ज होगा केस

थानाध्यक्ष मनोज भाटी ने बताया कि मामले की सूचना की गई है। फिलहाल अभी तक किसी ने कोई शिकायत नहीं की है। शिकायत मिलने पर मामला दर्ज किया जाएगा।

पूरी स्टोरी पढ़िए