मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से महिला ने न्याय की गुहार लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की है।

फर्ज़ी गिरफ्तारी या पुलिस कुछ छुपा रही ? I Daily Janmat News I DJN |

कानपुर। अब यूपी पुलिस (UP Police) का एक और सनसनीखेज कारनामा सामने आया है। मामला कानपुर के कल्याणपुर थाने (Kalyanpur Police Station) का है। आरोप है कि यहां दर्ज मुकदमे के आरोपी के बदले कल्याणपुर पुलिस ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की रहने वाली माया ठाकुर को जेल भेज दिया। वहीं करीब 10 महीने बाद हाईकोर्ट (High Court) से माया को जमानत मिल गई है। अब माया फर्जी तरह से जेल भेजने के आरोप में सीएम योगी (CM Yogi Adityanath) से न्याय की गुहार लगाई है। अब इस मामले में पुलिस अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं।

कल्याणपुर इलाके में फर्जी तरीके से जमीन बेचने के आरोप में राधेलाल, दिव्यांश गोयल और सुशीला गोयल के खिलाफ थाने में केस दर्ज किया गया था। आरोप है कि इस मामले में कल्याणपुर पुलिस एमपी (MP) की रहने वाली माया ठाकुर (Maya Thakur) को पकड़कर लाई और पूछताछ करके कोर्ट में सुशीला बताकर पेश किया, जहां कोर्ट ने महिला को जेल भेजने का आदेश दे दिया। लगभग 10 माह बाद हाईकोर्ट से महिला को जमानत मिली है। वहीं माया ठाकुर ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उसे सुशीला गोयल नाम का आरोपी बनाकर जेल भेज दिया था। जबकि वह किसी सुशीला गोयल नाम की महिला को जानती तक नहीं है। 

महिला ने लगाए गंभीर आरोप

महिला ने आरोप लगाया कि 26 दिसंबर 2020 को कल्याणपुर पुलिस मध्य प्रदेश से उसको पकड़कर लाई थी। इसके बाद उस पर सुशीला गोयल होने का दबाव बनाया गया, लेकिन जब उसने ऐसा नहीं किया तो पुलिस ने उसको जेल भेज दिया। वहीं अब जमानत मिलने के बाद माया ठाकुर ने कल्याणपुर पुलिस के खिलाफ सीएम योगी आदित्यनाथ से कार्रवाई की मांग की है और इस मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रही हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए