हत्या का चल रहा था मामला, सुनवाई के लिए हरियाणा से लाया गया था।

डेली जनमत न्यूज। उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले का न्यायालय परिसर मंगलवार सुबह अचानक गोलियों के तड़तड़ाहट से गूंज उठा। गोलियों की आवाज सुनते ही पूरे कोर्ट परिसर में भगदड़ मच गई। हापुड़ न्यायालय परिसर के गेट पर बदमाशों ने हरियाणा से पुलिस कस्टडी में आये कैदियों पर 5 राउंड फायरिंग कर दी। इसमें एक कैदी को गोली लगी। फायरिंग के बाद बदमाश फरार हो गए। वहीं, घायल कैदी को पुलिस ने आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया लेकिन उसकी मौत हो गई। 

जानकारी के मुताबिक सुबह करीब 10 बजे हरियाणा से कैदियों को लेकर एक वैन न्यायालय परिसर के गेट पर रुकी थी। जैसे ही कैदी वैन से उतरने लगे कि तभी अचानक चार से पांच बदमाश आए और कैदी पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी और भाग गए। मौके पर मौजूद हरियाणा पुलिस के जवान और उत्तर प्रदेश पुलिस ने देखा कि एक कैदी गोली लगने से बुरी तरह जख्मी है तो उसे फौरन अस्पताल ले गए, जहां उसकी मौत हो गई। 

पहले से घात लगाए थे बदमाश

वहीं सूचना मिलते ही मौके पर एसपी दीपक भूकर सहित पुलिस फोर्स पहुंची। पुलिस के मुताबिक मृतक की पहचान हरियाणा के लाखन के तौर पर हुई, जिसे किसी केस के सिलसिले में पुलिस पेशी पर लाई थी। वहीं पहले से घात लगाए चार से पांच बदमाशों ने उसकी हत्या कर दी। फिलहाल आस-पास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं और हापुड़ में नाकेबंदी की गई है।

हत्या के आरोप में सजा काट रहा था लाखन

वर्ष 2019 में थाना धौलाना क्षेत्र के गांव नंगला उदयरामपुर निवासी विजय सिंह ने अपनी पुत्री आरती और ज्योति की शादी हरियाणा के फरीदाबाद क्षेत्र के गांव अनंगपुर निवासी देवेंद्र के पुत्र सचिन और सागर के साथ तय हुई की थी। 24 नवंबर 2019 को बारात फरीदाबाद से नंगला उदयरामपुर में पहुंची थी। दोनों पक्षों के लोग बड़ी धूमधाम से शादी समारोह की रस्मों को पूरा कर रहे थे। शाम के समय दोनों पक्षों के लोगों की मौजूदगी में दुल्हनों की विदाई की रस्म अदा की जा रही थी। इस दौरान एक बाइक पर सवार होकर आए तीन हथियारबंद बदमाशों ने दूल्हे के सगे चाचा फरीदाबाद के गांव अनंगपुर निवासी सुधीर (40) की गोली मारकर हत्या कर दी थी। फायरिंग के दौरान गांव प्रधान नंगला उदयरामपुर निवासी सुशील, विजयपाल, कार्तिक और रामवीर गोली लगने से घायल हो गए थे। इस घटना में अनंगपुर निवासी लाखन (36) का नाम भी प्रकाश में आया था। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भिजवाया था। लाखन के खिलाफ हिस्ट्रीशीटर की कार्रवाई भी की गई थी। 

सिपाही को लगी गोली

मंगलवार को हरियाणा पुलिस में उपनिरीक्षक विजय, हेड कांस्टेबल ओम प्रकाश, कांस्टेबल नरेंद्र, दीपक, संदीप और चालक राजू सरकारी गाड़ी से लाखन को पेशी पर हापुड़़ ला रहे थे। तभी कचहरी के पास गोलीबारी शुरू हो गई। लाखन को बदमाशों से बचाने के चक्कर में एक सिपाही को गोली लगी है। गंभीर हालत में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए