हर दिन औसतन 1.3 बिलियन डॉलर बढ़ी संपत्ति ।

नई दिल्ली। ऑक्सफैम की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोना महामारी से दुनिया भर में खूब तबाही मचाई है। वहीं इस बीमारी ने कुछ लोगों को खूब धनवान बनाया है। 160 मिलियन से ज्यादा लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने के लिए मजबूर हुए हैं। जिसमें बड़ी संख्या में महिला और गैर श्वेत नस्ल के लोग हैं।

कोरोना महामारी को दुनिया में आए दो साल हो गए हैं। इस समय विश्व के कई देश कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट की वजह से तीसरी और चौथी लहर का सामना कर रहे हैं। कोरोना महामारी की भयावहता को इसी बात से समझा जा सकता है कि, महामारी से पूरी दुनिया में रोजाना 21,300 लोगों की मौत हो रही है। जिसमें बहुत से लोगों को तो बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाएं तक हासिल नहीं हुई। लेकिन इस सब के बीच ऑक्सफैम की एक रिपोर्ट सामने आई है। जिससे पता चलता है कि, कोरोना महामारी के दोरान दुनिया के 10 सबसे अमीर लोगों की संपत्ति दोगुनी हो गई। जबकि इस दौरान दुनिया में कई ऐसे भी लोग थे जो रोजीरोटी के लिए सड़क पर संघर्ष कर रहे थे।

हर दिन औसतन 1.3 बिलियन डॉलर बढ़ी संपत्ति 

ऑक्सफेम की रिपोर्ट के अनुसार बीते दो साल में 10 सबसे अमीर लोगों की संपत्ति 700 बिलियन डॉलर से बढ़कर 1.5 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच गई है। यानि इनकी संपत्ति में हर दिन औसतन 1.3 बिलियन डॉल की रफ्तार से बढ़ोतरी हुई।

कोरोना महामारी से 160 मिलियन लोग गरीब हुए। ऑक्सफैम की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना महामारी की वजह से दुनियाभर में 160 मिलियन से ज्यादा लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने के लिए मजबूर हुए हैं। जिसमें बड़ी संख्या में महिला और गैर श्वेत नस्ल के लोग है। वहीं वैश्विक टीकाकरण उत्पादन, स्वास्थ्य सुविधाओं की बेहतरी, लिंग आधारित हिंसा के उन्मूलन और क्लाइमेट चेंज को लेकर जरूरी कदम उठाने के लिए सुधार की वकालत की है।

फोर्ब्स मे मैगजीन के टॉप 10 अमीरों की लिस्ट

टेसला और स्पेस एक्स के चीफ इलॉन मस्क।

अमेजन के जेफ बेजोस।

गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन।

फेसबुक के मार्क जकरबर्ग।

माइक्रोसॉफ्ट के पूर्व सीईओ बिल गेट्स और स्टीव बामर।

ओरेकल के पूर्व सीईओ लैरी एलिसन

यूएस के दिग्गज निवेशक वॉरेन बफेट।

फ्रेंच लग्जरी ग्रुप एलवीएमएच के बर्नार्ड अरनॉ।

ऑक्सफैम इंटरनेशनल’ की कार्यकारी निदेशक गैब्रिएला बुशेर ने एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘ वैश्विक महामारी अरबपतियों के लिए अप्रत्याशित रूप से लाभदायक साबित हुई है। जब सरकारों ने बचाव पैकेज की घोषणा की और सभी के लिए अर्थव्यवस्था बेहतर करने के वास्ते अर्थव्यवस्था तथा वित्तीय बाजारों में खरबों लगाए गए, तब उससे हुआ पूरा फायदा अरबपतियों को मिला।’’ बुशेर ने कहा कि टीका निर्माण वैश्विक महामारी की सफलता की कहानियों में से एक है, लेकिन ‘‘अमीर देशों ने टीकों की जमाखोरी की है’’, जो ‘फार्मास्युटिकल’ एकाधिकार सुरक्षित रखना चाहते हैं।

क्या कहते हैं ये धनी व्यक्ति

उन्होंने कहा कि 10 सबसे धनी लोगों पर एकमुश्त 99 प्रतिशत कर लगाने से 800 अरब डॉलर मिल सकते हैं और इसका इस्तेमाल कई सामाजिक कार्यों के लिए किया जा सकता है। बुशेर ने कहा कि इस पैसे से ‘‘ पूरी दुनिया के लिए टीकों का भुगतान सक्षम होगा, सभी के लिए स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित की जा सकेंगी।’’

पूरी स्टोरी पढ़िए