शिवाजी पार्क में लता मंगेशकर को भतीजे आदित्य ने दी मुखाग्नि।

मुंबई। भारत रत्न लता मंगेशकर शिवाजी पार्क में राजकीय सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन हुईं। उनके भतीजे आदित्य ने उनको मुखाग्नि दी। इस मौके पर बहन आशा भोसले, ऊषा मंगेशकर, मीना, भाई हृदयनाथ ने नम आंखों से अपनी ‘दीदी’ को अंतिम विदाई दी। शिवाजी पार्क में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वर कोकिला को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। लता मंगेशकर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। जल, थल और वायु सेना के अधिकारियों ने भी उन्हें आखिरी अलविदा कहा।

 वहीं, शाहरुख खान, सचिन तेंदुलकर, अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, अजय देवगन, उद्धव ठाकरे, राज ठाकरे, पीयूष गोयल, शरद पवार, सुप्रीया सूले, जावेद अख्तर आदि लोग शिवाजी पार्क में भावभीनी श्रद्धांजलि दी। स्वर कोकिला के दर्शन करने के लिये आम जनमानस की भी भारी भीड़ थी। सबने नम आंखों से ‘लता दीदी’ को विदाई दी।

भारत की स्वर कोकिला लता मंगेशकर का निधन हो गया है। लता मंगेशकर को 8 जनवरी को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। इसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पातल में भर्ती करवाया गया। लता लगभग एक महीने से अस्पताल के आईसीयू में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थीं। अस्पताल के डॉक्टर प्रतीत समदानी संग उनकी टीम लता की देख-रेख और इलाज कर रहे थे। आज लता मंगेशकर दुनिया को अलविदा कह गई हैं। उनका अंतिम संस्कार आज शाम मुंबई के शिवाजी पार्क में होना है। 

तिरंगे में लिपटकर आखिरी सफर

तिरंगे में लिपटकर लता मंगेशकर अपने अंतिम सफर पर रवाना हुईं। हजारों लोगों की भीड़ लता के अंतिम संस्कार में उमड़ी है। लता मंगेशकर को राजकीय सम्मान के साथ श‍िवाजी पार्क में अंत‍िम विदाई दी जाएगी।

अपने आखिरी पलों में सुन रहीं थी पिता के गाने

अपने आखिरी पलों में पिता के गाने सुन रही थीं लता मंगेशकर की जिंदगी पर किताब लिखने वाले हरीश भिमानी ने लता जी के आखिरी पलों के बारे में बताया। 

बड़ी बहन को विदा करने चलीं आशा भोसले 

लता मंगेशकर के पार्थिव शरीर को लेकर उनका परिवार शिवाजी पार्क पहुंचा। इस काफिले में उनके साथ उनकी बहन आशा भोसले शामिल रहीं।

अंतिम दर्शन करने उमड़ा जनसैलाब

अपने अंतिम सफर पर निकल गई हैं। पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनके पार्थिव शरीर को प्रभुकुंज से शिवाजी पार्क ले जाया जा रहा है। लता मंगेशकर को विदाई देने के लिए चाहने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा है। सभी लता के अंतिम दर्शन करना चाहते हैं। पुलिस इस भीड़ पर काबू पाने की कोशिश कर रही है। ताकि लता दीदी के पार्थिव शरीर को ले जाने में दिक्कत ना हो।

पूरी स्टोरी पढ़िए