सीमा यादव ने मायावती के लिये कही ये बड़ी बात।

नई दिल्ली। सीमा कुशवाहा निर्भया कांड के बाद चर्चा में आई थीं।  उन्होंने हाथरस गैंगरेप पीड़िता का केस भी लड़ा था। सीमा कुशवाहा एक सफल वकील तो हैं हीं, अब वह राजनीति में भी उतर रही हैं।

साल 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया कांड के आरोपियों को फांसी की सजा दिलवाने वाली वकील सीमा कुशवाहा बीएसपी में शामिल हो गई हैं। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले ‘निर्भया’ की वकील सीमा कुशवाहा ने बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया है। बीएसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सतीश चंद्र मिश्रा ने निर्भया की वकील को पार्टी की सदस्यता दिलवाई है। इस दौरान सतीश चंद्र मिश्रा ने फूल और बाबा साहेब की प्रतिमा देकर उनका बीएसपी में स्वागत किया है। पार्टी की सदस्यता लेते ही सीमा कुशवाहा ने बहनजी मायावती को पांचवीं बार सीएम बनाने का संकल्प भी लिया।

‘निर्भया’ को इंसाफ दिलाने वाली वकील सीमा कुशवाहा ने लॉ पूरा करने के बाद कानपुर से वकालत की ट्रेनिंग शुरू की थी। हालात हक में न होने की वजह से उन्हें कानपुर छोड़कर दिल्ली का रुख करना पड़ा था। सीमा कुशवाहा इटावा के बकेबर थाना क्षेत्र के लखना गांव की पहने वाली हैं। उन्होंने एक छोटे से गांव से निकलकर अपनी एक अलग पहचान बनाई है। अब वह राजनीति  में दम आजमाने जा रही हैं। सीमा ने आज बीएसपी का दामन थाम लिया है।

विधानसभा चुनाव लड़ सकती हैं सीमा 

निर्भया को न्याय दिलाकर सीमा कुशवाहा ने एक सफल वकील के रूप में खुद को स्थापित किया है। अब वह इटावा की जरूरतमंद बेटियों की कानूनी मदद करना चाहती हैं। सीमा कुशवाहा का कहना है कि महिलाएं जहां भी काम करें, उन्हें अपने अधिकारों और आत्मसम्मान के लिए जागरूक होना चाहिए।

पूरी स्टोरी पढ़िए