बरेली के सुभाष नगर का है पूरा मामला।

#bareilly: शहनाज बनी सुमन, इरम बनी स्वाति, मुस्लिम धर्म छोड़ अपनाया हिन्दु धर्म//DJN

बरेली। दो मुस्लिम लड़कियों ने हिंदू धर्म अपनाकर वैदिक रीति-रिवाज से विवाह किया। लड़कियों का कहना है कि मुस्लिम धर्म में महिलाओं को सम्मान नहीं मिलता। वहां जब चाहते है 3 बार तलाक बोल देते है और फिर हलाला करते है। 

यह पूरा मामला बरेली जिले के सुभाषनगर थाना क्षेत्र के मढ़ीनाथ का है। इरमा जैदी से ‘स्वाती’ और शहनाज से ‘सुमन’ बनी दोनों लड़कियों की शादी मढ़ीनाथ स्थित अगस्त मुनि आश्रम में हुई। दोनों लड़कियों का विवाह पंडित केके शंखधार ने कराया। जानकारी के मुताबिक दोनों मुस्लिम लड़कियों का शुद्धिकरण किया गया। फिर दोनों युवतियां का धर्म परिवर्तन करवाकर नाम बदला गया। इसके बाद दोनों लड़कियों का हिंदू लड़कों से विधि विधान के साथ विवाह संपन्न कराया गया। इस दौरान दोनों लड़कियों ने सात फेरे लिए, लड़कों ने मांग में सिंदूर भरा, मंगल सूत्र पहनाया।

जानिए क्या है पूरा मामला

7 फेरे, मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र, हिंदू रीति रिवाज से होते हुए विवाह की ये दोनो तस्वीरे बरेली के सुभाषनगर थाना क्षेत्र के मढ़ीनाथ की है। भोजीपुरा निवासी शहनाज अब नए नाम से पहचानी जाएगी अब उसका नाम सुमन देवी हो गया है। शहनाज को अजय नाम के लड़के से मोहब्बत हो गई जिसके बाद उसने हिंदू धर्म अपना लिया और अजय से विवाह कर लिया है। बहेड़ी की इरम जैदी ने भी हिंदू धर्म अपना लिया और अपना नाम स्वाती रख लिया है। इरम जैदी ने आदेश कुमार से शादी कर ली। बरेली के मढ़ीनाथ स्थित अगस्त मुनि आश्रम में पंडित केके शंखधार ने दोनों लड़कियों का विवाह संपन्न कराया। पहले दोनों लड़कियों का शुद्धिकरण किया गया। उसके बाद उनका धर्म परिवर्तन करवाकर नाम बदला गया। जिसके बाद दोनों लड़कियों का हिंदू लड़कों से विधि विधान के साथ विवाह संपन्न कराया गया। इस दौरान दोनों लड़कियों ने सात फेरे लिए, लड़कों ने मांग में सिंदूर भरा, मंगलसूत्र पहनाया, जिसके बाद दोनों ने पंडित जी का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। 

जानिए क्यों बदला मुस्लिम धर्म

भोजीपुरा निवासी शहनाज उर्फ सुमन देवी का कहना है कि उसकी हिंदू धर्म में आस्था है जिस वजह से उसने अपनी मर्जी से बिना किसी दबाव के हिंदू धर्म अपनाया है और अपनी मनपसंद के लड़के से शादी की है और वह अब पूरी जिंदगी उसी के साथ काटना चाहती है। तो वही बहेड़ी की इरम जैदी का कहना है कि वह भी हिंदू धर्म में ही विश्वास करती है यही वजह है कि उसने हिंदू धर्म अपनाकर हिंदू लड़के से विवाह किया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए