मृतक व्यक्ति की पहचान पंजाब के तरनतारन जिले के लखबीर सिंह के रूप में हुई है। लखबीर सिंह की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले निहंग सरबजीत सिंह ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है।

डेली जनमत न्यूज डेस्क। सिंघु बॉर्डर (singhu border) पर किसानों के प्रदर्शन स्थल पर शव मिलने की घटना पर किसान नेता ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा  यहां हिंसा नहीं। इस मामले में कानून अपना काम करे। गौरतलब है कि दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्थल के पास से एक व्यक्ति का शव मिलने से सनसनी मच गई थी। मृतक व्यक्ति की पहचान पंजाब के तरनतारन जिले के लखबीर सिंह के रूप में हुई है। लखबीर सिंह की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले निहंग सरबजीत सिंह ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। 

घटना ठीक नहीं, कानून अपना काम करेगा

टिकैत ने समाचार ने कहा कि जो हुआ है वो पूर्ण रूप से गलत है। संयुक्त किसान मोर्चा ने इस मामले में अपना बयान जारी कर दिया है। कानून अपना काम करेगा। देश में जो धाराएं और कानून हैं उसका पालन होगा। साथ ही राकेश टिकैत ने कहा कि घटना ठीक नहीं थी। यहां कोई हिंसा नहीं है। लोगों ने क्या किया है सबको पता है। घटना से नुकसान तो होता है लेकिन हमारा उससे कोई मतलब नहीं है।

क्या था मामला

 शुक्रवार सुबह को सिंघु बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के मुख्य स्टेज के पास एक युवक का शव मिला था। शव को टेंट के पास लगे एक बैरिकेडिंग से लटका दिया गया।  शव का बायां हाथ कटा हुआ था। शव मिलने की जानकारी मिलते ही कुंडली थाने की पुलिस ने मौके पर पहुंच कर बैरिकेडिंग से शव को उतारा और पास के सिविल हॉस्पिटल लेकर गई। बाद में मृतक व्यक्ति की पहचान पंजाब के तरनतारन जिले के रहने वाले लखबीर सिंह के रूप में की गई। लखबीर की हत्‍या की जिम्मेदारी निहंग समूह निर्वेर खालसा-उड़ना दल ने ली। निहंग समूह ने कहा कि गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करने के कारण उसकी हत्या की गई। हत्या के आरोपी निहंग सरबजीत सिंह ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। 

टिकैत पर भड़के अशोक पंडित

इस मामले में बॉलीवुड फिल्ममेकर अशोक पंडित ने कड़े शब्दों के किसान आंदोलन पर निशाना साधा है। उन्होंने भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत पर कई आरोप भी लगाए हैं। अशोक पंडित ने ट्वीट में लिखा कि सिंघु बॉर्डर पर आर्मी की तैनाती हो। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘सिंघु बॉर्डर आर्मी को हैंडओवर किया जाए, इससे पहले कि ये पाकिस्तान बॉर्डर में तब्दील हो जाए। इन हत्यारों को अपराधियों की तरह ट्रीट क्या जाए क्योंकि ये देश की आतंरिक सुरक्षा के लिए खतरा बन चुके हैं।’ अशोक पंडित ने मृतक युवक का एक वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘ये अफगानिस्तान नहीं बल्कि सिंघु बॉर्डर है। जिन आतंवादियों ने इस आदमी की हत्या की वो तालिबानी नहीं बल्कि खालिस्तानी हैं जो टिकैत (राकेश टिकैत) के आदमी हैं।’

पूरी स्टोरी पढ़िए