5 इंच गहरे जख्म से दिमाग की नस हुई डैमेज

Amravati में भी केमिस्ट की हत्या क्या नूपुर के समर्थन को लेकर हुई ?देखें इस वीडियो में//DJN

अमरावती। राजस्थान के उदयपुर की ही तरह महाराष्ट्र के अमरावती हत्याकांड से लोगों में काफी नाराजगी देखने को मिली है । केमिस्ट उमेश कोल्हे के परिवार को इंसाफ दिलाने की जद्दोजहद लगातार जारी है। तो वहीं अब अमरावती में 21 जून को हुई केमिस्ट उमेश कोल्हे की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। 

उमेश कोल्हे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि उनकी हत्या चाकू से की गई थी। चाकू के हमले से  उमेश कोल्हे की दिमागी नस और सांस की नली, खाने की नली और आंख की नसें पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थीं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये भी खुलासा भी हुआ कि हमलावरों ने उमेश की गर्दन पर 5 इंच चौड़ा 7 इंच लंबा और 5 इंच गहरे घाव किए थे। 

7 जुलाई तक पुलिस हिरासत में मास्टरमाइंड

शनिवार को केमिस्ट उमेश कोल्हे हत्याकांड में अमरावती कोर्ट ने  नागपुर से गिरफ्तार मास्टरमाइंड शेख इरफान को 7 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेजा है। इस मामले में अब तक की ये सातवीं गिरफ्तारी रही है। जबकि रविवार को पुलिस ने अमरावती के केमिस्ट उमेश कोल्हे की पोस्टमार्ट रिपोर्ट की जानकारी दी। आरोप है कि पूर्व बीजेपी प्रवक्ता के समर्थन में कुछ व्हाट्सएप ग्रुप में मैसेज शेयर करने के कारण उमेश कोल्हे की हत्या की गई थी। वहीं, इस हत्याकांड के एक सप्ताह बाद राजस्थान के उदयपुर में भी कन्हैयालाल नाम के एक टेलर की गला काट कर हत्या कर दी गई थी । पुलिस के मुताबिक, उमेश ने कथित तौर पर नूपुर शर्मा के समर्थन में कुछ वाट्सएप ग्रुपों पर एक पोस्ट को शेयर किया था। जिनमें ब्लैक फ्रीडम नाम का एक ग्रुप भी था । उमेश ने नूपुर शर्मा के समर्थन वाला वॉट्सएप मैसेज को शेयर किया था । इस ग्रुप में कुछ मुस्लिम समुदाय के लोग भी शामिल थे। इस ग्रुप में उमेश का दोस्त यूसूफ भी था। पुलिस के मुताबिक, नुपुर शर्मा के समर्थन के कारण ही यूसूफ ने अपने अन्य साथियों के साथ प्लान करके उमेश की हत्या को अंजाम दिया था। पुलिस उमेश कोल्हे हत्याकांड के मामले में शेख इरफान, मुदस्सिर अहमद , शाहरुख पठान , अब्दुल तौफिक , शोएब खान , अतिब रशीद और युसूफ खान बहादुर खान को गिरफ्तार किया है । 

आरोपी युसूफ मृतक उमेश का दोस्त था

केमिस्ट उमेश कोल्हे के भाई महेश कोल्हे ने सनसनीखेज खुलासा किया है। महेश ने कहा हत्या में शामिल एक आरोपी युसूफ मेरे भाई उमेश का करीबी दोस्त था। दोनों का ज्यादातर समय एक साथ गुजरता था। महेश ने बताया युसूफ उमेश के अंतिम संस्कार में भी शामिल हुआ था। महेश का कहना है कि युसूफ का एक-दूसरे के घर पर आना जाना था। युसूफ पशु चिकित्सक है और हम उसे 2006 से जानते हैं। महेश कोल्हे ने कहा कि हत्या का सरगना गिरफ्तार हो गया है, इसलिए जांच अब तेजी से आगे बढ़ सकती है। हम मांग करते हैं कि मामला फास्टट्रेक कोर्ट में चलाया जाए और दोषियों को अधिकतम सजा दी जाए। महेश ने कहा कि जांच एनआईए को सौंपे जाने से हमें संतोष है कि मामला जल्द सुलझ सकेगा और आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जा सकेगा।

पूरी स्टोरी पढ़िए