एसआइटी आशीष मिश्र को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

लखनऊ। लखीमपुर खीरी हिंसा के मुख्यक आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र की जमानत अर्जी सीजेएम कोर्ट से खारिज हो गई है। बताया जा रहा है कि आशीष के वकील अब जिला जज की अदालत में जमानत अर्जी डालने की तैयारी कर रहे हैं। एसआइटी आशीष मिश्र को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

दरअसल, लखीमपुर में 3 अक्टूबर को हिंसक झड़प में चार किसान, एक पत्रकार और बीजेपी कार्यकर्ताओं समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में आशीष मिश्र मुख्य आरोपी है। आरोप है कि जिस थॉर जीप से किसानों को कुचला गया था वह आशीष मिश्र ही चला रहे थे। इस घटना के बाद यूपी की सियासत गर्मा गई। एसआईटी ने आरोपी आशीष मिश्र को पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। वहीं  वकीलों ने सीजेएम कोर्ट में जमानत अर्जी लगाई थी, जिसे बुधवार को कोर्ट ने खारिज कर दिया। अब वकील जिला जज की अदालत में अर्जी लगाने की तैयारी कर रहे हैं।

6 लोगों की हो चुकी गिरफ्तारी

उधर, इस मामले में आरोपी अंकित दास और उसके गनर लतीफ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लखीमपुर खीरी कांड में अब तक केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्र मोनू समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। अभी इस मामले में करीब आधा दर्जन और लोगों की गिरफ्तारी होना बाकी है।

एसआईटी की कानूनी मदद के लिए अपर निदेशक

लखीमपुर खीरी कांड में अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी करने के लिए अपर निदेशक अभियोजन राजेश श्रीवास्तव को एसआईटी की कानूनी मदद के लिए भेजा गया है। अपर निदेशक अभियोजन राजेश श्रीवास्तव 2005 में लखीमपुर में अभियोजन अधिकारी के पद पर तैनात थे। चर्चित मंजूनाथ हत्याकांड से जुड़े गैंगस्टर के मुकदमे में पैरवी कर अभियुक्तों को सजा दिलाई थी। वर्तमान में राजेश श्रीवास्तव अपर निदेशक अभियोजन के पद पर प्रयागराज रेंज में तैनात हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए