निशा का दावा पुलिस ठीक से नहीं कर रही जांच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लगाई गुहार।

Kanpur : आंचल की मौत के बाद परिजनों ने खोले कई राज Exclusive | LATEST NEWS | DAILY JANMAT NEWS |

कानपुर। नजीराबाद थानाक्षेत्र के अशोक नगर निवासी नामी करोबारी सूर्यांश खरबंदा की पत्नी आंचल की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। पुलिस ने पति, सास समेत आठ ससुरालवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था और दो को जेल भेज जांच-पड़ताल कर रही है। इसबीच डेली जनमत न्यूज की संवाददाता अंशिका तिवारी से खास बातचीत के दौरान मृतका की मां रीना ग्रोवर, पिता पवन ग्रोवर और भाई अक्षय ग्रोवर  ने कई सनसनरखेज खुलासे किए हैं। उनका आरोप है कि रईसजादे दमाद व उसके रिश्तेदारों ने मिलकर बेटी की हत्या कर दी। बचने के लिए 'दौलत की रस्सी' से फांसी के फंदे पर आंचल का शव लटका दिया गया। उनका आरोप है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट पूरी तरह से गलत है। पैसे के बल पर आरोपित परिवार खुद को बचाने में जुटा है। ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हमारी मांग है कि जांच ठीक से तरह से कराएं और आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाएं। जिससे कि आंचल की आत्मा को शांति मिल सके। 

पुलिस खरबंदा परिवार का कर रही सहयोग

अशोक नगर में शुक्रवार देर रात कारोबारी सूर्यांश खरबंदा की पत्नी आंचल की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। बाथरूम में दुपट्टे के फंदे से उसका शव लटकता मिला था। 9 फरवरी 2019 को रानीगंज, काकादेव  निवासी आंचल ग्रोवर (25) से सूर्यांश की शादी हुई थी। मृतका की मां ने डेली जनमत संवददाता से बातचीत के दौरान कहा कि पुलिस पहले दिन से खरबंदा परिवार के साथ खड़ी है। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस शव का तत्काल अंतिम संस्कार कराने पर तुली थी। जबकि हमने कहा था कि सभी आरोपियों को गिरफ्तार करो। अधिकारियों के कहने पर हमने शव का अगले दिन अंतिम संस्कार करा दिया। दमाद और उसकी मां को पुलिस ने पकड़ कर जेल भेज दिया, जबकि अन्य आरोपी अभी भी खुले में घूम रहे हैं।

इनके खिलाफ दर्ज कराई है एफआईआर 

मृतका की मां ने बताया कि, आंचल के पति सूर्यांश, उसकी मां निशा, फूफा भरत ग्रोवर, बुआ मीनाक्षी, बुआ अन्नू खुल्लर, बहनोई पुनीत कोटवानी, नंद निकिता कोटवानी व तान्या ग्रोवर के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज करवाई है। पुलिस ने सिर्फ सूर्यांश और उसकी मां निशा को गिरफ्तार किया है। जबकि बहनोई को भी पकड़ना चाहिए। क्योंकि बहनोई पवन उनकी बेटी पर बुरी नजर रखता था। बेटी विरोध करती तो सूर्यांश से उसे पिटवाता था। 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर खड़े किए सवाल

बतादें, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हैंगिंग की पुष्टि हुई है। शरीर पर अन्य कोई जख्म या चोट के निशान नहीं पाए गए हैं। जिस पर मृतका की मां का आरोप है कि ये रिपोर्ट पूरी तरह से गलत है। उनका आरोप है कि रिपोर्ट पैसे के बल पर तैयार करवाई गई है। पुलिस आरोपियों से कड़ाई से पूछताछ करती तो वह सारे राज उगल देते। पुलिस ने उन्हें कोर्ट से रिमांड पर भी नहीं लिया। 

साजिश के तहत वायरल कराए जा रहे ऑडियो 

आंचल खरबंदा की मौत के बाद से एक के बाद एक वायरल हो रहीं कॉल रिकॉर्डिंग व वीडियो को लेकर मृतका की पिता का कहना है कि, ससुरालवाले एक साजिश के तहत कॉल रिकॉर्डिंग व वीडियो वायरल करवा रहे हैं। यह अधूरा सच है। केवल एक पहलू उजागर कर खुद को बेगुनाह साबित करने का प्रयास कर रहे हैं। कहा कि सूर्यांश और निशा आंचल को हर तरह से प्रताड़ित करते थे। कई बार विवाद हुआ। मगर हमेशा यह प्रयास किया गया कि बेटी का परिवार बचा रहे। इसलिए विवाद के बाद बातचीत कर मामले को सुलझाने का प्रयास किया गया। उसके बावजूद मेरी बेटी पर बर्बरता की गई।

मृतका के भाई ने खोले राज

मृतका के भाई ने आरोप लगाया कि सूर्यांश अय्याश था। उसके कई महिलाओं से संबंध थे। शादी के बाद से वह बहन को परेशान करता था। भाई ने एक घटना का जिक्र करते हुए बताया कि जब आंचल ने बच्चे को जन्म दिया, तब वह मायके आ गई। करीब छह माह वह हमारे साथ रही, लेकिन सूर्यांश ने छह महिनों में एकबार भी मिलने नहीं आया। फोन से बात नहीं की। बहन ने एकबार फोन लगाया तो बहनोई कानपुर के बाहर था। फोन पर महिला की आवाज आ रही थी। आंचल के भाई का आरोप है कि सूर्यांश ने ही मेरी बहन की हत्या की है। हम चाहते हैं कि जांच निष्पक्ष हो और सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाए। साथ ही हमें सुरक्षा मुहैया कराई जाए। 

केस की विवेचना एसीपी नजीराबाद कर रहे 

बतादें, केस की विवेचना एसीपी नजीराबाद संतोष कुमार सिंह कर रहे हैं। वह वायरल हो रहे वीडियो व रिकॉर्डिंग को जांच में शामिल करेंगे। इसकी फोरेंसिक जांच भी कराई जा सकती है। दूसरी तरफ राज्य महिला आयोग की टीम भी इन तथ्यों का सत्यापन कर जांच कर रही है। पुलिस को निर्देशित भी किया है कि साक्ष्यों के आधार पर मजबूत विवेचना करें। जिससे कोई भी आरोपी बच न पाए।

पूरी स्टोरी पढ़िए