वाराणसी कमिश्नरेट के अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध) सुभाष चंद्र दुबे ने बर्खास्त किया है।

वारणसी। वाराणसी क्राइम ब्रांच में तैनात रहे दुष्कर्म के आरोपी इंस्पेक्टर अमित कुमार को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। यह कार्रवाई विभागीय जांच रिपोर्ट के आधार पर की गई है। इंस्पेक्टर के खिलाफ मथुरा की रहने वाली एक लड़की ने जनवरी 2020 में रेप का केस दर्ज कराया था। इसके बाद इंस्पेक्टर अमित कुमार की हेड कांस्टेबल पत्नी ने भी शिकायत की थी कि उसके पति ने गलत जानकारी देकर प्रमोशन पाया है। इस शिकायत की जांच के बाद इंस्पेक्टर पद से अमित का डिमोशन कर उसे सब इंस्पेक्टर बना दिया गया।  

मेरठ के पल्लवपुरम के रहने वाले अमित कुमार साल 2020 में वाराणसी में क्राइम ब्रांच में इंस्पेक्टर था। 8 जनवरी 2020 को मथुरा के कोसीकला थाना की एक युवती ने अमित के खिलाफ महिला थाने में तहरीर दी। उसने अमित के खिलाफ शादी का झांसा देकर रेप समेत अन्य आरोप में मुकदमा दर्ज कराया। इसके बाद लड़की ने तत्कालीन एसएसपी से आरोप लगाया था कि अमित उस पर समझौता करने का दबाव बनाता है और बात न मानने पर उसकी हत्या की धमकी देता है। इसके बाद तत्कालीन एसएसपी के आदेश पर कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। 

सीओ बघेल हो चुके गिरफ्तार

बता दें कि इससे पहले दुष्कर्म के आरोपी बसपा सांसद अतुल राय के मामले में निलंबित सीओ अमरेश सिंह बघेल को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। उन पर दर्ज केस में जिक्र किया गया था कि सांसद अतुल राय के खिलाफ दर्ज दुराचार के मामले में दंड से बचाने के लिये लोकसेवक अमरेश सिंह ने अपने पदीय कर्तव्य के निर्वहन में अपूर्ण व निराधार अभिलेखों की रचना की। साथ ही विचारण के दौरान मिथ्या साक्ष्यों के आधार पर मुख्य आरोपी अतुल राय को विचारण में लाभ पहुंचाने के आशय से त्रुटी पूर्ण आख्या तैयार की।

पूरी स्टोरी पढ़िए