संस्थान ने एक प्राथमिक चिकित्सा सह आइसोलेशन केंद्र की पुनर्स्थापना की है।

कानपुर। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राष्ट्रीय शर्करा संस्थान ने पूर्व निर्धारित परीक्षा शेड्यूल से पूर्व छात्रों की रैपिड एंटीजन टेस्ट कराया। इसमें तीन छात्रों के कोरोना संक्रमित पाए जाने से हड़कंप मच गया। परीक्षा में छात्रों को ऑनलाइन देने की अनुमति के साथ ही संस्थान में कोविड बचाव को लेकर कदम उठाए गए हैं, ताकि छात्रों के साथ-साथ अधिकारी व कर्मचारियों को ​कोरोना की चपेट में आने से बचाया जा सके। बता दें कि अब तक ओमिक्रॉन के शहर में 8 मामले सामने आ चुके हैं।

सवाधानी बरतते हुए संस्थान ने अपने छात्रों, कार्यरत अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सुविधा के लिये एक प्राथमिक चिकित्सा सह आइसोलेशन केंद्र की पुनर्स्थापना की है। इस केंद्र में ऑक्सीजन सिलेंडर एवं कॉन्सन्ट्रेटर द्वारा ऑक्सीजन की व्यवस्था के अतिरिक्त प्राथमिक चिकित्सा के लिए अन्य उपकरण भी उपलब्ध कराये गये हैं। साथ ही छात्रों की सुविधा के लिये डॉक्टर ऑन कॉल की व्यवस्था भी की गयी है। वहीं प्राथमिक चिकित्सा सह आइसोलेशन केंद्र की व्यवस्था देखने के लिये निदेशक नरेंद्र मोहन एवं छात्रावास प्रतिपालक संजय चौहान द्वारा इसका दौरा किया गया। उन्होंने अधिकारियों एवं कर्मचारियों को व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। 

कोरोना संक्रमित छात्र ऑनलाइन देंगे एग्जाम  

संस्थान के निदेशक ने बताया कि संस्थान में 14 जनवरी से शर्करा तकनीकी के छात्रों की परीक्षायें पूर्वनिर्धारित है। इसको देखते हुए छात्रों का कोरोना परीक्षण के​ लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट कराये जा चुके हैं। जिसमें 3 छात्र संक्रमित पाये गये हैं। इनकी आरटीपीसीआर टेस्टिंग कराई जा रही है। इसको देखते हुए संस्थान द्वारा हाइब्रिड मोड पर परीक्षाएं कराना सुनिश्चित किया जा रहा है, जिसमें कोरोना संक्रमित छात्र ऑनलाइन परीक्षा दे सकेंगे।

पूरी स्टोरी पढ़िए