वर्चुअल संवाद के दौरान सीएम योगी ने तीसरी लहर को देखते हुए पार्षदों को उनकी जिम्मेदारियों से अवगत कराते हुए कई जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

लखनऊ। लखनऊ में कोविड-19 के हालतों के बीच सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना महामारी के साथ ओमिक्रॉन से बचाव के लिए पार्षदों से चर्चा की। वर्चुअल संवाद के दौरान सीएम योगी ने तीसरी लहर को देखते हुए पार्षदों को उनकी जिम्मेदारियों से अवगत कराते हुए कई जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

उत्तर प्रदेश में कोरोना से हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। रोजाना बड़ी संख्या में सामने आ रहे संक्रमण के मामले डराने वाले है। प्रदेश में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। इसको लेकर सीएम योगी काफी चिंता में हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड स्थिति पर पार्षदों के साथ वर्चुअल बातचीत की। इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रदेश में ओमिक्रॉन के साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर को देखते हुए हमारी कई जिम्मेदारियां बढ़ गई हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के शहरी इलाकों में करीब छह करोड़ लोग रहते हैं। इसी वजह से कोरोना वायरस की तीसरी लहर के साथ ओमिक्रॉन के प्रति हमारी जिम्मेदारी भी बढ़ गई है। हमें यकीन है कि हम इससे बेहतर तरीके से निपटेंगे।

प्रदेश में परिवर्तनकारी सरकारः सीएम योगी

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 में राज्य में परिवर्तनकारी सरकार आई। हमने बिना किसी भेदभाव के लोगों को योजनाओं का लाभ दिया है। इससे लोगों का विश्वास भी बढ़ा है। हमें भी लोगों के इस भरोसे को हर स्तर पर मजबूत करना है। इसलिए सभी अपने काम के प्रति बेहद ईमानदार रहें। सरकार हर समय मदद कर रही है, यह भविष्य में भी बेहतर होगा। हमने गरीबों को आवास योजना का लाभ दिया है। डबल इंजन वाली सरकार से गरीबों को भी काफी फायदा हुआ। हमने राज्य को माफियाओं से मुक्त कराया। सभी जगह भू-माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कर जमीन खाली करा दी गई है।

पूरी स्टोरी पढ़िए