मुकदमा दर्ज करने की दी धमकी, डांटकर पीड़ित को भगाया।

लखनऊ। प्रदेश में विकास और शांति की नारा देने वाले सीएम योगी चाहे जितनी कोशिश कर लें लेकिन यूपी पुलिस की रवैये में कोई सुधार नहीं है। बीते कई दिनों से राज्य के अलग-अलग जिलों से पुलिस पर गंभीर आरोप लगे हैं। यहां तक की अधिकारियों की लापरवाही को देखते हुए सूबे के डीजीपी को बदल दिया गया। हांलाकि इसके बाद योगी की पुलिस अधिकारी और कर्मचारी सरकार की छवि को पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहे। ऐसा ही मामला राजधानी लखनऊ सामने आया है। जहां खुद की जान बचाने की गुहार लगाते फरियादी को बेड पर अराम फरमा रहे दरोगा डांट लगाकर भगा देते हैं।

दरअसल, पूरा मामला लखनऊ के मड़ियांव थाने की अजीजनगर चौकी का है। जहां एक पीड़ित चौकी प्रभारी से जान खतरे में होने की बात कहता है और सुरक्षा को लेकर गुहार लगाता है। दरोगा पीड़ित की मदद करने की बजाय उसे डांट कर भगा देते हैं। सोमवार को इस घटना का वीडियो वायरल हो गया। वायरल वीडियो में आप देख सकते हैं कि अजीजनगर चौकी प्रभारी संतोष सिंह चौकी के अंदर बेड पर लेटे हुए हैं। इसी बीच एक पीड़ित फरियाद लेकर पहुंचता है।

सीसीटीवी कैमरा खंगालने को कहते है

दरोगा पीड़ित से मुकदमे के बारे में पूछता है। इस पर पुलिस विवेचना करने की बात कहते हैं और फरियादी को जमकर फटकार लगाते हैं। उसे सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग का हलावा देते हुए जांच करने की बात कहते है। पीड़िता कहता है कि उसे धमकी दी जा रही है उसकी जान को खतरा है इसपर दरोगा जी उसे ही डपटकर भगा देते हैं। साथ ही कहते हैं कि अगर तुम्हारे साथ कोई भी अप्रिय घटना होती है तो उसके जिम्मेदार तुम्हे पैदा करने पिता होंगे। जिसके बाद पीड़ित को थाने से भगा दिया जाता है। 

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

आरोप है कि दरोगा ने पीड़ित पर मुकदमा दर्ज करने की धमकी भी दी है। सुनवाई होने पर पीड़ित थाने से चला जाता है। वहीं, दरोगा का ये वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है। योगी सरकार सूबे में अपराध पर काबू पाने की पूरी कोशिश कर रही है लेकिन पुलिस का रवैया दिन-पर दिन इस पर सवाल खड़ा करता है। 

https://twitter.com/dailyjanmatnews/status/1526164634922647553

पूरी स्टोरी पढ़िए