माघ मेले में कल्पवास करने वालों सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम तट पर स्नान कर दान-पुण्य किया।

प्रयागराज में 'आस्था की डुबकी'। Magh Mela 2022 | Kumbh | Makar Sankranti |

कानपुर। मकर संक्रांति के मौके पर शुक्रवार को घने कोहरे के बीच श्रद्धालु गंगा में पुण्य की डुबकी लगा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के बाद भी लोग बेखौफ होकर कानपुर, हरिद्वार, प्रयागराज, वाराणसी, हापुड़, अयोध्या और गोरखपुर समेत अन्य जिलों में भी स्नान कर दान-पुण्य में जुटे हैं। इसी के साथ माघ मेला औपचारिक रूप से शुरू हो गया है। यहां भी कल्पवास करने वालों सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम तट पर स्नान कर दान-पुण्य किया।  

मकर संक्रांति पर प्रयागराज में पवित्र संगम में तड़के से श्रद्धालु डुबकी लगा रहे हैं। यहां लोग संगम के साथ-साथ गंगा नदी के रामघाट, दारागंज, अक्षयवट, गंगोली शिवाला और फाफामऊ घाटों पर पवित्र डुबकी लगा रहे हैं। सूर्याेदय के बाद उनकी भीड़ बढ़ती जा रही है। गंगा घाट पर स्नान करने के बाद श्रद्धालुओं ने भगवान सूर्य को अर्ध्य दिया और मंदिरों में पूजा-अर्चना की। इसके बाद पुजारियों को खिचड़ी, काले तिल, गुड़, कंबल आदि दान कर आशीर्वाद ले रहे हैं। 

जगह-जगह बंट रही खिचड़ी

मकर संक्रांति के पर्व से मेला क्षेत्र में संतों के शिविरों में भंडारा शुरू हो गया है। शहर में जगह-जगह प्रसाद के रूप में खिचड़ी का वितरण किया जा रहा है। मकर संक्रांति पर वाराणसी के घाटों पर भी काफी भीड़ है। दरअसल, मौसम साफ होने के चलते लोग बड़ी संख्या में गंगा नदी में स्नान कर रहे हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए