पूर्व विधायक सतीश निगम ने कहा कि विधानसभा चुनाव में सपा की जीत तय, सूबे के अगले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव होंगे।

DJN EXCLUSIVE: सपा नेता सतीश निगम ने बीजेपी विधायक का खोल डाला 'कालाचिट्ठा' |DAILY JANMAT NEWS|

कानपुर। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की रणभेदी बज चुकी है। राजनीतिक दल जीत-हार के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए हैं। कानपुर नगर और ग्रामीण क्षेत्रों की 10 सीटों के लिए घमासान तेज है। कल्याणपुर सीट से जल्द ही सपा और बीजेपी के प्रत्याशियों के नाम का ऐलान हो सकता है। इन सब के बीच पूर्व विधायक सतीश निगम ने डेली जनमत न्यूज के साथ खास बातचीत के दौरान बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि कल्याणपुर से विधायक नीलिमा कटियार का इस बार हारना तय हैं। इसी डर की वजह से वह सुरक्षित सीट की तलाश कर रही हैं। यहां जनता 10 मार्च को साइकिल दौड़ाने जा रही है।

कभी भी जनता के बीच नहीं दिखीः सतीश निगम

पूर्व विधायक व समाजवादी पार्टी से संभावित प्रत्याशी सतीश निगम ने कहा कि पिछले पांच साल के कार्यकाल में विधायक व योगी सरकार में मंत्री नीलिमा कटियार कभी भी जनता के बीच नहीं दिखीं। उन्होंने कहा कि 2017 से पहले नवाबगंज की ब्रम्हपुरी गली, विष्णपुरी, भर्रउटी में पेयजल की व्यवस्था अच्छी थी। यहां लोगों के घरों में स्वच्छ पानी आता था, लेकिन इनके विधायक चुने जाने के बाद से लोगों के घरों में गंदा और बदबूदार पानी नलों से निकल रहा है। इसकी शिकायत भी जनता ने विधायक से कई बार की, लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई। सतीश निगम का दावा है कि उन्होंने खुद के पैसों से लोगों के घरों में सबमर्सिबल लगवाए हैं। इतना ही नहीं जलकल के अधिकारियों से बात की, कई बार धरना दिया, लेकिन समस्या का समाधान नहीं निकला।

नीलिमा कटियार क्षेत्र से बाहर रहीं

पूर्व विधायक का कहना है कि हम चुनाव हारने के बाद जनता से सीधे जुड़े रहे, जबकि विधायक चुनने के बाद नीलिमा कटियार क्षेत्र से बाहर रहीं। लोग अक्सर समस्याएं लेकर हमारे पास आते हैं और हम उनका निराकरण करते हैं। 2022 के चुनाव में नीलिमा कटियार चुनाव के मैदान में अगर उतरतीं हैं तो उन्हें समाजवादी पार्टी करारी शिकस्त देगी। पूर्व विधायक ने कहा कि सूबे में अखिलेश यादव की सुनामी में बीजेपी का सत्ता से जाना तय हैं। आने वाले समय में कई बीजेपी नेता पार्टी छोड़कर साइकिल की सवारी करते हुए नजर आएंगे।

22 हजार वोटों से जीती थीं नीलिमा कटियार

बता दें कि यूपी सरकार में राज्यमंत्री नीलिमा कटियार कल्याणपुर से विधायक हैं। उन्होंने 22 हजार वोटों से समाजवादी पार्टी के सतीश निगम को हराया था। कल्याणपुर विधानसभा में खलासी लाइन, परमट, नवाबगंज, विष्णुपुरी, गंगा बैराज का अटल घाट तक, धनउ पुरवा, नारामऊ, ख्योरा, नवशील धाम, पनकी, गंगागंज, गोवा गार्डन, कपली गंभीरपुर, अशोकनगर, गुमटी गुरुद्वारा, विनायकपुर, अंबेडकरनगर जैसे इलाके शामिल हैं।

जानिए जातिगत आंकड़ा

कल्याणपुर विधानसभा में कुल वोटर 3 लाख 95 हजार हैं। जिसमें ब्राह्मण- 75 हजार, ओबीसी- 1.5 लाख, कायस्थ- 40 हजार, ठाकुर- 20 हजार, मुस्लिम- 20 हजार, दलित- 60 हजार, वैश्य- 25 हजार हैं। विधानसभा के प्रमुख मुद्दों में से जल निकासी, पेयजल, सीवर लाइन, सड़क, रेलवे क्रासिंग, कानून व्यवस्थ प्रमुख हैं। यहां ओबीसी मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं और हार-जीत में अहम रोल अदा करते हैं। इस विधानसभा क्षेत्र में कानपुर यूनिवर्सिटी, नेशनल शुगर इंस्टिट्यूट, चन्द्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय, एचबीटीयू, जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज, हैलेट अस्पताल, कार्डियोलॉजी, कैंसर इंस्टिट्यूट आते हैं।

विधायक से जनता नाराज

कल्याणपुर इलाके के लोगों का कहना है कि क्षेत्र की सड़के टूटी पड़ी हैं, जगह-जगह जलभराव की समस्या बनी रहती है। इससे उड़ने वाली धूल के कारण कारोबार चौपट हो गया है। बता दें कि मंत्री नीलिमा कटियार की मां प्रेमलता कटियार कल्याणपुर विधानसभा क्षेत्र से पांच बार विधायक रही हैं। उन्हें सपा के उम्मीदवार सतीश निगम ने हराया था।

पूरी स्टोरी पढ़िए