जमानत देने को लेकर ED कर रही थी विरोध।

नई दिल्ली। 200 करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में बॉलीवुड एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडिस के लिए राहत की खबर है। आखिरकार उन्हें दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट से जमानत मिल गई है। इससे पहले दिल्ली की कोर्ट में 11 नवंबर 2022 को सुनवाई हुई थी पर अदालत ने फैसला सुरक्षित रखते हुए 15 नवंबर शाम 4 बजे की तारीख दी थी। जैकलीन फर्नांडिस पर कई गंभीर आरोप हैं, जिसमें से एक ये है कि वह महाठग सुकेश चंद्रशेखर की काली करतूतों से अवगत थीं और इसके बावजूद वह ठग से महंगे गिफ्ट्स लिया करती थीं।

दिल्ली की अदालत से जैकलीन फर्नांडिस को मनी लॉन्ड्रिंग केस में राहत मिली। दो लाख के निजी मुचलके पर उन्हें बरी कर दिया गया। एक्ट्रेस को जमानत के तमाम नियम कायदों को मानना होगा। बीते 10 नवंबर को जैकलीन फर्नांडिस की जमानत खत्म हो गई थी। कोर्ट ने इस मामले में 11 नवंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

ईडी ने किया था जैकलीन फर्नांडिस की बेल का विरोध

11 नवंबर को दोनों पक्षों की कोर्ट ने दलीलें सुनी। ईडी ने एक्ट्रेस की बेल का विरोध करते हुए आरोप लगाया कि जैकलीन फर्नांडिस ने जांच में सहयोग नहीं किया था और वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकती हैं। वह विदेश भी भाग सकती हैं। ऐसे में एक्ट्रेस को जमानत नहीं दी जानी चाहिए।

जैकलीन फर्नांडिस के वकील ने रखी थीं ये दलीलें

जैकलीन फर्नांडिस के वकील ने कोर्ट में पक्ष रखते हुए ईडी के आरोपों को सिरे से खारिज किया था। उन्होंने कहा था कि एक्ट्रेस ने हमेशा जांच में सहयोग किया है। बल्कि ईडी ने हमेशा एक्ट्रेस को परेशान किया है और झूठे इल्जाम लगाए हैं।

महाठग सुकेश चंद्रशेखर की करीबी जैकलीन फर्नांडिस!

जैकलीन फर्नांडिस पर ये भी आरोप हैं कि वह 200 करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग के मुख्य आरोपी सुकेश चंद्रशेखर की सभी काली करतूतों से अवगत थीं। इसके बावजूद उन्होंने आरोपी से दोस्ती रखी और महंगे गिफ्ट्स लिए। कुछ रिपोर्ट्स ने तो ये भी दावा किया कि दोनों रिलेशनशिप में भी थे। जबकि जैकलीन फर्नांडिस ने इन आरोपों से साफ इंकार किया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए