राममंदिर के इन तीन मार्गों का किया जाएगा तेजी से विकास।

लखनऊ। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि तक सुगम पहुंच के लिए सड़कों के चौड़ीकरण, सुंदरीकरण और सुविधायुक्त बनाने की दिशा में प्रदेश सरकार तेजी से काम कर रही है। इस योजना के तहत कुल नौ अरब रुपये की पहली किस्त के रूप में 107 करोड़ रुपये शासन ने जारी कर दिया है। लोक निर्माण विभाग को सड़कों का काम तय समय में पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। 

योगी सरकार ने श्रीराम जन्मभूमि के आस-पास के इलाके को दिव्य-भव्य रूप देने की योजना बनाई है। जिसे श्रीराम जन्मभूमि कॉरीडोर नाम दिया गया है जो कि श्रीकाशी विश्वनाथ धाम की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है। इस कार्य को समय से पूरा करने के लिए लोक निर्माण विभाग ने निर्देश दिए हैं। इस प्रोजेक्ट की देखरेख जिले के जिलाधिकारी करेंगे।

 इस जगहों का तेजी से किया जा रहा है विकास 

अयोध्या में राममंदिर निर्माण के साथ-साथ भक्तों के लिए सुविधाएं विकसित करने का काम भी तेजी से चल रहा है। राममंदिर जाने वाले तीनों मार्गों को रामपथ, जन्मभूमि पथ व भक्ति पथ के रूप में विकसित किया जाना है। सहादतगंज-नयाघाट मार्ग को रामपथ, सुग्रीव किला से रामजन्मभूमि को जन्मभूमि पथ व शृंगारहाट से श्रीराम जन्मभूमि को भक्तिपथ का नाम दिया गया है। 

तीन सड़कों के लिए कुल बजट 899.90 करोड़ 

धर्मार्थ कार्य विभाग द्वारा अयोध्या में श्रीराम मंदिर तक पहुंचने के लिए विशेष व्यवस्था की जा रही है। इसके तहत तीन मार्गों के निर्माण, चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण की व्यवस्था के लिये शासन द्वारा 899.90 करोड़ रुपये स्वीकृत की गई है।डीएम नितीश के अनुसार, रामलला के दर्शनार्थियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में भक्तों के लिए जनसुविधाएं विकसित करने की भी जरूरत को देखते हुए सबसे पहले राममंदिर के इन तीनों पहुंच मार्गों को विकसित किया जाएगा।

अयोध्या के 3 सड़कों के जीर्णोद्धार के निर्देश 

लोक निर्माण विभाग को तय समय में कार्य पूरा करने के निर्देश भी दिए गए हैं। अपर मुख्य सचिव धर्मार्थ कार्य अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि सहादतगंज से नया घाट मार्ग के मेन स्पाइन रोड, जिसकी लंबाई तकरीबन 12.940 किलोमीटर है, के निर्माण की कुल लागत 7.97 अरब रुपये है। इसकी पहली किश्त के रूप में एक अरब रुपये की वित्तीय स्वीकृति दे दी गई है। वहीं, सहादतगंज-नया घाट मार्ग के सुग्रीव किला होते हुए श्रीराम जन्मभूमि तक कुल लंबाई 0.566 किमी के लिए चार लेन मार्ग के निर्माण की योजना है। इसके लिए 39.43 करोड़ रुपये की धनराशि मंजूर की गई है, जिसमें से 3.98 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए