ये मामला 3 साल पहले साल 2018 का है। सपना चौधरी ने लखनऊ में एक कार्यक्रम का करार किया था। इसके लिए उन्होंने पैसे भी लिए थे लेकिन ऐन वक्त पर कार्यक्रम रद्द कर दिया गया

डेली जनमत न्यूज डेस्क। अपने डांस से लोगों के दिलों पर राज करने वालीं सपना चौधरी() की मुश्किलें इन दिनों बढ़ गईं हैं। लखनऊ के एसीजेएम शांतनु त्यागी की कोर्ट ने डांस का प्रोग्राम कैंसिल करने और टिकट खरीदने वालों को उनके टिकट का पैसा भी वापस न करने के अपराधिक मामले में डांसर सपना चौधरी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया है। इस मामले की अगली सुनवाई 22 नवंबर को होगी।

सपना के साथ आयोजकों पर भी मुकदमा

बताया जा रहा है कि ये मामला 3 साल पहले साल 2018 का है। सपना चौधरी ने लखनऊ में एक कार्यक्रम का करार किया था। इसके लिए उन्होंने पैसे भी लिए थे लेकिन ऐन वक्त पर कार्यक्रम रद्द कर दिया गया और दर्शकों के पैसे भी नहीं लौटाए गए। इस मामले में सपना चौधरी के साथ ही आयोजकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। 

सपना के न आने पर फैंस का हंगामा

14 अक्टूबर 2018 को आशियाना थाने के सब इंस्पेक्टर फिरोज खान ने इस मामले में एफआईआर दर्ज करवाई थी। 13 अक्टूबर 2018 को आशियाना इलाके में डांसर सपना चौधरी का एक कार्यक्रम प्रस्तावित था, जिसमें प्रति व्यक्ति 300 रुपये में ऑनलाइन और ऑफलाइन टिकट बेचे गए थे। उस प्रोग्राम को देखने के लिए शाम से ही वहां पर हजारों लोग टिकट लेकर मौजूद थे। रात 10  बजे तक जब सपना चौधरी नहीं आई तो लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। आयोजकों ने टिकट खरीदने वालों के पैसे भी वापस नहीं किए। जिसके बाद आक्रोशित भीड़ ने कार्यक्रम स्थल पर हंगामा और तोड़फोड़ शुरू कर दी। 

सपना चौधरी की डिस्चार्ज याचिका हो चुकी है खारिज

अदालत इस प्रकरण में मामला खत्म करने के अनुरोध वाली सपना चौधरी की डिस्चार्ज याचिका को पहले ही खारिज कर चुकी है। अब अदालत सपना और इस मामले के अन्य अभियुक्तों के खिलाफ आरोप तय करेगी।

पूरी स्टोरी पढ़िए