IIT बॉम्बे में एक कंप्यूटर साइंस शिक्षक ने बनाया देश का दूसरा रोबोट।

नई दिल्ली। आज का समय आर्टिफिशियल इंटेलिजेंश और रोबोटिक मशीन्स का है जहां टीचिंग और टीचर के प्रोफेशन में भी एआई और रोबोट्स की अब एंट्री हो चुकी है। कल तक टीचर इंसान होते थे, लेकिन स्मार्ट क्लास और स्मार्ट टीचिंग के जमाने में अब ‘रोबोंट’ टीचर बन गए हैं। जी बिल्कुल सही सुना आपने, रोबोट अब स्कूलों में टीचिंग कर रहे हैं और बच्चों को भी अपने इस नए टीचर के संग बड़ा मजा आ रहा है।

इन दिनों मुंबई की एक रोबोट टीचर काफी सुर्खियां बटौर रही है। शालू नाम की यह रोबोट टीचर स्टूडेंट्स को पढ़ा रही है। यह देश की दूसरी ऐसी रोबोट है जो बच्चों को पढ़ाने में सक्षम है। केंद्रीय विद्यालय, IIT बॉम्बे में एक कंप्यूटर साइंस टीचर, दिनेश कुंवर पटेल ने दुनिया का पहला सामाजिक और शैक्षिक ह्यूमनॉइड रोबोट 'शालू' विकसित किया है। इसे कार्डबोर्ड और बाकी वेस्ट मटेरियल से बनाया गया है। 

हर सवाल का सेकंड्स में देती हैं जवाब

 शालू रोबो टीचर, बॉम्बे IIT के केंद्रीय विद्यालय में पढ़ाती है। जब से शालू मैडम की क्लास शुरू हुई है तब से बच्चों की पढ़ाई में रुचि पहले से ज्यादा बढ़ गई है। टीचर शालू कभी साड़ी तो कभी सूट के संग चुन्नी डालकर स्कूल में बच्चों को पढ़ाने आती है । बच्चों को इनकी क्लास में पढ़ाई करने बेहद अच्छा लगा रहा है। बच्चे बताते हैं कि शालू की क्लास उन्हें किसी भी दूसरे टीचर से बेहतर लगती है और शालू उनके हर प्रश्न का उत्तर कुछ ही सेकंड्स में दे देती हैं। 

47 भाषाएं बोल सकती हैं मैडम शालू 

रोबोट टीचर शालू 9 भारतीय और 38 विदेशी भाषाओं समेत 47 भाषाएं बोल सकती है। इस रोबोट को घर में ही बनाया गया है और इस की सब से खास बात यह है कि स्कूल में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को शालू से पढ़ाई करने में काफी आसानी होती है। बच्चों को अपने सवालों के जवाब भी मिल जाते हैं और मजा भी आता है। बच्चों को पढ़ाने के लिए इसमें जो सब्जेक्ट और टॉपिक पढ़ना होता है, उसकी फाइल अपलोड कर दी जाती है और उसके जरिए ही शालू बच्चों को पढ़ाती है। 

IIT बॉम्बे में कंप्यूटर साइंस टीचर ने बनाया रोबोटिक टीचर  

बता दें, शालू नाम की ये रोबोट देश की दूसरी ऐसी रोबोट है जो बच्चों को पढ़ाने में पूरी तरह से कामयाब हुई है। इस रोबोट शालू को केंद्रीय विद्यालय, IIT बॉम्बे में एक कंप्यूटर साइंस टीचर, दिनेश कुंवर पटेल ने दुनिया का पहला सामाजिक और शैक्षिक ह्यूमनॉइड से बनाया है। हैरानी की बात ये भी है कि इस रोबोट 'शालू' को कार्डबोर्ड और बचे हुए वेस्ट मैटीरियल से बनाया गया है। इस रोबोट शालू को एक भारतीय नारी का लुक दिया गया है।  

पूरी स्टोरी पढ़िए