विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में कई मंत्रियों और विधायकों के इस्तीफे से पार्टी मुश्किल में नजर आ रही है।

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दलितों के बीच पैठ बनाने के लिए एक नया दांव चला है। मकर संक्रांति पर सीएम योगी ने गोरखपुर में एक दलित परिवार के साथ भोजन किया। इससे उन्होंने एक बड़ा संदेश देने की कोशिश की है। इस दौरान सीएम योगी ने प्रदेश और देशवासियों के साथ-साथ पार्टी कार्यकर्ताओं को भी मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दी। बता दें कि विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में कई मंत्रियों और विधायकों के इस्तीफे से पार्टी मुश्किल में नजर आ रही है। साथ ही दलितों पर ध्यान न देने के लिए योगी सरकार निशाने पर है। 

मकर संक्रांति पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में एक दलित परिवार के साथ भोजन किया। योगी आदित्यनाथ की 40 साल पुराने बीजेपी कार्यकर्ता अमृत लाल भारती के घर पर जमीन में बैठकर भोजन करने की तस्वीर ऐसे समय आई है जब कई पिछड़े नेताओं ने पार्टी से नाता तोड़ लिया है। प्रदेश कैबिनेट से तीन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी और दारा सिंह समेत 6 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही उन पर समाज के विभिन्न वर्गों को लेकर राजनीति करने का आरोप लग रहा है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने जताया आभार

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सहभोज के बाद पत्रकारों से कहा कि मकर संक्रांति के मौके पर मैं अनुसूचित जाति के कार्यकर्ता अमृत लाल भारती और उनके परिवार के सदस्यों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे खिचड़ी सहभोज के लिए अपने घर पर आमंत्रित किया। अमृत लाल ने खिचड़ी सहभोज कार्यक्रम के माध्यम से सामाजिक समता और पीएम मोदी के सबका साथ-सबका विकास मंत्र को अपनाते हुए विकास, समृद्धि और राष्ट्रवाद के अभियान को आगे बढ़ाने के लिए भोज किया। यह कार्यक्रम बाबा साहब के संदेश को लोगों तक पहुंचाने के अभियान के तहत हुआ है।

पूरी स्टोरी पढ़िए