रतनपुर में आरोपियों ने दिया था वारदात को अंजाम, गिरफ्तारी न होने पर शव रखकर रोड किया जाम।

कानपुर। पनकी थानाक्षेत्र के रतनपुर इलाके में दशहरा की रात बीजेपी कार्यकर्ता की 500 रुपये न देने पर पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। दो दिन बीतने के बाद भी गिरफ्तारी न होने पर परिवार वालों ने शव रखकर रोड जाम कर दिया। कल्याणपुर एसीपी और पनकी थाना प्रभारी के समझाने के बाद परिवार वालों ने शव का अंतिम संस्कार किया।

रतनपुर में रहने वाले भाजपा कार्यकर्ता अजय कुमार तिवारी की शुक्रवार दशहरा की देर रात पीट पीट कर हत्या कर दी गई थी। आरोप था कि शराब के लिए 500 रुपए न देने पर इलाके के धर्मेंद्र सिंह, सुनील चतुर्वेदी और दीपू समेत तीन चार अन्य लोगों के साथ मिलकर अजय को बेरहमी से पीटा था। हैलट में इलाज के दौरान अजय ने दम तोड़ दिया था। रविवार को पोस्टमार्टम से शव मिलने के बाद परिजनों ने घर पर शव रखकर हंगामा शुरू कर दिया।

परिजनों का कहना था कि आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद ही वह अंतिम संस्कार करेंगे। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक नीलिमा कटियार भी पीड़ित परिवार को सांत्वना देने पहुंची। पनकी थाना प्रभारी दधिबल तिवारी, एसीपी दिनेश शुक्ला समेत अन्य अफसरों ने गिरफ्तारी का भरोसा दिलाया तब जाकर चार घंटे बाद परिजनों ने अंतिम संस्कार किया।

पुलिस की लापरवाही पर फूटा गुस्सा

परिजनों का आरोप है कि पुलिस अगर समय रहते कार्रवाई करती तो आरोपी मौके से ही गिरफ्तार हो जाते। लेकिन पुलिस पीड़ित पर ही नशेबाजी और मारपीट का आरोप लगाती रही। इलाज के दौरान मौत होने पर पनकी थाना प्रभारी दधिबल तिवारी हरकत में आए और एफआईआर दर्ज करके आरोपियों की तलाश में छापेमारी शुरू की।

पूरी स्टोरी पढ़िए