राजनीति से प्रेरित है फिल्म।

नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा में इस वक्त ऐसी फिल्मों का दौर चल रहा है, जिनकी कहानियां और किरदार राजनीति और राजनेताओं से प्रेरित या प्रभावित हैं। ऐसी ही एक नई फिल्म का एलान शुक्रवार को हुआ। फिल्म का शीर्षक है- ‘मैं रहूं या ना रहूं, यह देश रहना चाहिए- अटल’।

जैसा कि शीर्षक से जाहिर है, यह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बयोपिक है और उनका किरदार जानदार अभिनेता पंकज त्रिपाठी निभाएंगे। फिल्म उत्कर्ष नैथानी ने लिखी है, जबकि इसका निर्देशन रवि जाधव कर रहे हैं, जो तीन बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुके हैं। यह फिल्म अटल बिहारी वाजपेयी के निजी और राजनीतिक सफर को दिखाएगी।

अटल जी का बायोपिक मिलना खुशनसीबी- पंकज

अटल जी भारतीय राजनीति के उन नायकों में शामिल हैं, जिन्होंने बड़े स्तर पर देश की सियासत को प्रभावित किया था। उनकी हाजिरजबावी और बोलने के अंदाज के दोस्त ही नहीं, बल्कि सियासी प्रतिद्वंद्वी भी कायल थे। कवि के रूप में भी उन्हें काफी शोहरत मिली। जनसंघ की स्थापना से लेकर भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता और प्रधानमंत्री बनने तक, अटल जी की यात्रा प्रेरक रही है। भारतीय राजनीति की इतनी बड़ी शख्सियत का किरदार निभाने का मौका मिलने पर पंकज त्रिपाठी खुद को खुशनसीब मानते हैं। 

सुनहरे मौके की तरह है फिल्म- रवि जाधव

रवि जाधव, मराठी सिनेमा के जाने-माने निर्देशक हैं। उन्होंने नटरंग और बालगंधर्व जैसी फिल्मों का निर्देशन किया है। जाधव ने फिल्म को लेकर कहा- ‘अटल जी जैसा व्यक्तित्व और पंकज जैसा अदाकार, इस फिल्म को निर्देशित करना किसी सुनहरे मौके से कम नहीं है। एक निर्देशक के तौर पर अटल जी से बेहतर कहानी की कल्पना नहीं कर सकता था। इससे भी बढ़कर, पंकज जैसा कलाकार मिलना, निर्माताओं के लिए भी अच्छा रहेगा।’

फिल्म की क्या है पटकथा

अटल बिहारी वाजपेयी ने 1947 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ज्वाइन किया था और फिर बीजेपी में शीर्ष तक पहुंचे। अटल जी पहले ऐसे प्रधानमंत्री रहे, जो कांग्रेस से नहीं थे और अपना कार्यकाल पूरा किया। फिल्म का निर्माण विनोद भानुशाली, संदीप सिंह, सैम खान और कमलेश भानुशाली कर रहे हैं। जीशान अहमद और शिव शर्मा सह निर्माता हैं। 

राजनीति से प्रेरित फिल्में

कंगना रनोट अपनी फिल्म इमरजेंसी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का किरदार निभा रही हैं। इस फिल्म में अटल जी के रोल में श्रेयस तलपड़े दिखेंगे। तमिलनाडु की राजनीति और सिनेमा की दिग्गज शख्सियत जे जयललिता की बायोपिक में भी कंगना ने उनका किरदार निभाया था। अनुपम खेर ऐसे अभिनेता रहे हैं, जो लगातार पॉलिटिकल रोल निभा रहे हैं। इमरजेंसी में जय प्रकाश नारायण का किरदार निभाने वाले अनुपम द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर में डॉ. मनमोहन सिंह बन चुके हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए