आपको जानकर हैरानी होगी कि बाजार में नकली अंडों की उपलब्धता बढ़ रही है।

डेली जनमत न्यूज डेस्क । सर्दी का मौसम (winter season) आते ही अंडे की डिमांड (demand for eggs) बढ़ जाती है। अंडा हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसमें भरपूर प्रोटीन होते हैं। इसलिए इसे प्रोटीन का राजा भी कहा जाता है। खास तौर से जिम जाने वाले लोग अंडे के बेनिफिट्स बखूबी जानते हैं। इसे कच्चा और पकाकर दोनों तरीकों से खाया जा सकता है। आमतौर पर लोग ब्वायल, ऑमलेट या फिर दूध के साथ भी इसका सेवन करते हैं। सर्दी में अंडों की ऑनलाइन बिक्री (online sale of eggs)भी खूब हो रही है, जिसके चलते असली अंडों की बाजार में कमी हो चुकी है। इसलिए आपको जानकर हैरानी होगी कि बाजार में नकली अंडों  (fake eggs) की उपलब्धता बढ़ रही है। रीसरचर्स के मुताबिक नकली अंडा मनुष्य बॅाडी के लिए बेहद खतरनाक है । एक रिसर्च के मुताबिक नकली अंडों का लगातार सेवन करने से मनुष्य में नपुंशकता (Impotence) पैदा हो जाती है।

नकली अंडा कैसे बनता है 

विषेशज्ञ बताते हैं कि नकली अंडे के बाहरी हिस्से को बनाने के लिए कैल्शियम, जिप्सम तेल युक्त मोम चूर्ण और कार्बोनेट का इस्तेमाल होता है। कैल्शियम की मात्रा उतनी ही होती है कि जितना एक मनुष्य खा सकता है। इसके अंदर वाला हिस्सा जिलोटिन, सोडियम एल्गिनाइट और कैल्सियम की मदद से बनाया जाता है। इसका रंग बिल्कुल अंडे की तरह होता है, इसलिए इसकी पहचान कर पाना मुश्किल है।

पहचान कैसे करें ?

कृत्रिम अंडे का बाहरी छिलका हल्के भूरे कलर और खुरदरा होता है। जबकि असली अंडा चिकना होता है। उबालने के बाद कैल्शियम कार्बोनेट का आवरण तोड़ने पर कृत्रिम अंडे का भीतरी हिस्सा असली की तुलना में बेहद कठोर और रबर की तरह खिंचता है। पीला भाग थोड़ी उंचाई से छोड़ने पर गेंद की तरह उछलता है। यह धारदार वस्तु से ही काटा जा सकता है। चीनी व नकली अंडे के भीतर से भी असली की तरह ही पदार्थ निकलता है।

संलिप्त पाये जाने पर पांच लाख का जुर्माना 

विभागीय अधिकारी बताते हैं कि यदि कोई इस धंधे में संलिप्त पाया गया तो पांच लाख का जुर्माना सहित जेल का प्रावधान है।वहीं डॉक्टर इस अंडे में घातक रसायन होने की बात कहकर सेहत के लिए बेहद नुकसानदायक मान रहे हैं।बताया जा रहा है कि यदि इन नकली अंडों का सेवन कोई एक माह तक लगातार कर ले, तो वह बच्चा पैदा करने की शक्ति खो सकता है, यही नहीं इन अंडों को खाने से लोग पैरालाइज भी हो रहे हैं।

पूरी स्टोरी पढ़िए