अली अहमद पर 50 हजार का था इनाम।

प्रयागराज। बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद के फरार चल रहे छोटे बेटे अली अहमद उर्फ अली अतीक ने गिरफ्तारी का दबाव बढ़ने पर शनिवार को नाटकीय घटनाक्रम के तहत जिला अदालत प्रयागराज में सरेंडर कर दिया। बता दें कि अली पर करेली थाने में रंगदारी और धमकी देने का मामला दर्ज था। और वह 6 महीने से फरार चल रहा था और उस पर पुलिस ने 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। अली के फरार होने के बाद पुलिस ने उसपर इनाम घोषित किया गया था और कहा था कि अली का पता बताने वाले को ये इनाम राशि दी जाएगी और उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी। 

8 महीने से फरार चल रहा था अली 

अली अपने वकीलों के साथ दोपहर करीब 12 बजे जिला कोर्ट पहुंचा और ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट चतुर्थ शालिनी विधेय की कोर्ट में सरेंडर कर दिया। कोर्ट ने अली को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया है। STF की टीम काफी समय से उसको तलाश कर रही थी। बता दें कि दिसंबर 2021 में बेटे अली पर अतीक के ही एक रिश्तेदार ने मारपीट के साथ ही 5 करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने का केस दर्ज कराया था। वह पिछले 8 महीने से पुलिस की गिरफ्त से बाहर था।

पश्चिम बंगाल में होने का मिला था सुराग 

हालही में पुलिस को ऐसा इनपुट मिला था कि अली अपने साथियों के साथ पश्चिम बंगाल के खिदिरपुर स्थित एक अपार्टमेंट में छिपा है। इस दौरान एसटीएफ ने बंगाल पुलिस की मदद से वहां छापेमारी की थी। हालांकि वह पकड़ में नहीं आया था और पुलिस की छापेमारी से पहले ही फ्लैट छोड़कर भाग निकला था।

कोर्ट में दाखिल अर्जी हुई थी खारिज 

बता दें, कि अली अहमद पर रंगदारी मांगने, जान से मारने की धमकी देने समेत कई संगीन धाराओं में केस दर्ज है। इसी मामले में अली 8 महीने से फरार था। यूपी एसटीएफ की टीम उसे लगातार तलाश रही थी। अली की तलाश में STF की टीम ने कोलकाता में भी छापेमारी की थी। लेकिन अब अली वहां से फरार हो गया था। अतीक के छोटे बेटे अली ने सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट दोनों जगहों पर अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। लेकिन दोनों ही अदालतों से उसे बड़ा झटका लगा था। कोर्ट ने उसकी अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। अब उसने कोर्ट में जाकर खुद ही सरेंडर कर दिया है।

पूरी स्टोरी पढ़िए