ट्विटर मामला : अखिलेश ने भाजपा पर बोला हमला

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ट्विटर ऑफिस पर छापेमारी के बाद ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है कि, जिस तरह से भाजपा के इशारे पर ट्विटर के गुरूग्राम और दिल्ली के दफ्तरों  पर छापेमारी हुई उसकी हमघोर निंदा करते है। ये कार्य अलोकतांत्रिक है। आगे सपा प्रमुख ने लिखा 'भाजपाई अपने ही बिछाये झूठ के जाल में फंस गए हैं,ये भूल गये हर कोई दाना नहीं चुगता। इस बार बहेलिए को चिड़िया ले उड़ी।’

क्या है टूलकिट

दरअसल, टूलकिट को अगर हम आसान भाषा में समझें तो ये एक प्रकार का गूगल डॉक्यूमेंट होता है। जिसमें विस्तार से किसी खास मुद्दे के बारे में बताया जाता है। ताकी लोग उसे पढ़कर आसानी से समझ सकें कि आखिर देश या समाज में जो ज्वलंत मुद्दा चल रहा है वह क्यों चल रहा है। साथ ही साथ इसमें ये भी बताया जाता है कि अगर कोई समस्या है तो इसके समाधान के लिए हम क्या-क्या कर सकते हैं। इस किट में एक्शन प्वाइंट्स लिखे जाते हैं। ताकि कोई भी इंसान उसको फॉलो करके आंदोलन के साथ जुड़ सकता है। 

किसान आंदोलन के  दौरान टूलकिट चर्चा में आया 

भारत में पहली बार टूलकिट की चर्चा किसान आंदोलन के दौरान हुई थी। जब बेंगलुरू की पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को गिरफ्तार कर लिया गया था। एक बार फिर से टूलकिट चर्चा में है। इस बार बीजेपी ने कांग्रेस पर कथित रूप से टूलकिट जारी करने और पीएम मोदी को बदनाम करने में कोरोना महामारी को इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। इसी के बाद देश व प्रदेश में सियासत गर्म है। सत्ता व विपक्ष के  नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं।

इस वजह से सपा प्रमुख ने कसा तंज

24 मई 2021 को दिल्ली पुलिस की एक टीम ट्विटर के ऑफिस पहुंची। इसी के बाद विपक्षी दलों के नेताओं ने प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इस कार्यवाई  पर ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है। अखिलेश यादव ने लिखा, ’भाजपाई अपने ही बिछाये झूठ के जाल में फंस गये हैं। ये भूल गये हर कोई दाना नहीं चुगता। इस बार बहेलिए को चिड़िया ले उड़ी।’ 

पूरी स्टोरी पढ़िए