नेताओं को रास आता है गंगा जमुनी तहजीब का शहर कानपुर।

Breaking News : सपा के विजय रथ यात्रा का पहला चरण I Daily Janmat News I DJN |

कानपुर। यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी ने कमर कस ली है। इसके लिये कानपुर से फिर एक बार समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव  रथयात्रा से सीएम बनने तक का सफर तय करेंगे। 2011 में जब उनकी पार्टी सत्ता में आई थी, तब भी उन्होंने अपने चुनाव प्रचार की शुरुआत कानपुर गंगा किनारे से ही की थी। 

गंगा-जमुनी तहजीब का देंगे संदेश

रथयात्रा को लेकर सपा विधायक अमिताभ बाजपेई को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि कानपुर के एक छोर पर गंगा और दूसरे छोर पर यमुना बह रही हैं। गंगा जमुनी तहजीब का इससे बड़ा संगम और कहां मिलेगा। यहां से पूरे प्रदेश में एक बड़ा मैसेज जाएगा। पहले ही दिन जाजमऊ में अखिलेश यादव लोगों को संबोधित करेंगे। कानपुर से लॉ-एंड-ऑर्डर पर सरकार को घेरेंगे। 

मुस्लिम वोट बैंक पर सपा की नजर

कानपुर में गंगा किनारे रथयात्रा की शुरुआत और जाजमऊ जैसे मुस्लिम क्षेत्र से रथयात्रा की शुरुआत से हिंदु और मुस्लिम दोनों वोट बैंक पर सपा निशाना साध रही है। इस बार शहर के बाहर से ही रथयात्रा निकलेगी और हाईवे पर जगह-जगह उनका स्वागत किया जाएगा। 

जनसभा से बीजेपी को घेरने की तैयारी

अखिलेश यादव पहले ही साफ कर चुके हैं कि वे अपने कार्यकाल में कराए कार्यों को जनता के बीच ले जाएंगे। रथयात्रा के पहले ही दिन, अंत में घाटमपुर स्थित 1980 मेगावाट के नैवेली लिग्नाइट प्लांट के बाहर वे जनसभा को संबोधित करेंगे। यहीं से सरकार की नाकामी को गिनाएंगे। क्योंकि 11 जून 2012 को घाटमपुर में पावर प्लांट का अखिलेश यादव ने शिलान्यास किया था। लेकिन आज तक ये पावर प्लांट शुरू नहीं हुआ।

कानपुर में ये रहेगा रूट

पहले दिन जाजमऊ होते हुए, नौबस्ता से घाटमपुर में समाप्त होगी।

दूसरे दिन हमीरपुर से कालपी होते हुए माती मुख्यालय में समाप्त होगी।

अखिलेश कर चुके ये बड़ी रथ यात्राएं

31 जुलाई 2001 में पहली बार क्रांति रथ लेकर निकले थे।

12 सितंबर 2011 को दूसरी बार समाजवादी क्रांतिरथ यात्रा लेकर निकले।

12 अक्टूबर 2021 को तीसरी बार रथयात्रा लेकर निकल रहे हैं।


ये भी पढ़ें 👇👇👇

यूपी चुनावः आज अखिलेश का विजय रथ पहुंचेगा कानपुर, लखीमपुर में प्रियंका का दौरा

पूरी स्टोरी पढ़िए