20 लाख वाली आबादी में पीने, नहाने और जल अर्पण करने तक के लाले।

कानपुर। अगर आप नौ दिन व्रत हैं, खाना तो दूर अगर पीने का पानी भी नहीं मिल रहा तो सोचिये क्या हाल होगा ?  इस पर भी एक-एक बाल्टी पानी के लिये लाइन में लगना पड़े तो हालत बद से बदतर हो जाते हैं। 

मंगलवार शाम और बुधवार सुबह को सप्लाई के वक्त लाइट न आने से पानी की आपूर्ति बाधित रही। कानपुर शहर के कई मोहल्लों में लोगों को नवरात्र के व्रत पर पानी नहीं हासिल हुआ। 20 लाख की आबादी को बिना पानी काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है।

नहाने के लिए भी नहीं मिला पानी

बेनाझाबर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट से कानपुर की 20 लाख आबादी को 20 करोड़ लीटर पानी सप्लाई होता है। बिरहाना रोड, पी रोड, प्रेमनगर, ग्वालटोली समेत दर्जनों एरिया में लोगों को सुबह नहाने के लिए पानी तक नसीब नहीं हुआ। लोग पूजा-पाठ तक नहीं कर सके। बिरहाना रोड के रहने वाले सत्येंद्र सिंह ने बताया कि दो दिन से पानी नहीं आ रहा है। मंगलवार सुबह पानी आया वो भी बेहद लो प्रेशर से आया।

नहीं चल पा रहा ट्रीटमेंट प्लांट

मंगलवार शाम को दो बार बिजली फॉल्ट होने से बेनाझाबर वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का ब्रेकडाउन हो गया। यही बुधवार सुबह भी हुआ। पानी सप्लाई के वक्त करीब 2 घंटे लाइट नहीं आई है। ऐसे में पानी भी समय पर नहीं मिल सका। फूलबाग जोनल पंप स्टेशन में भी पानी बेहद लो प्रेशर से पहुंचा। पंप ऑपरेटर ने बताया कि टंकी में सिर्फ 6 फीट पानी है। इसे सप्लाई भी करेंगे तो इतना पानी सिर्फ लाइनों में ही रह जाएगा। घरों तक नहीं पहुंच पाएगा।

लाइट ने किया लाखों को परेशान

जलकल के अधिशाषी अभियंता वी के सिन्हा ने बताया कि पानी सप्लाई के वक्त लाइट चली जाती है। इसकी वजह से ट्रीटमेंट प्लांट संचालित नहीं हो पा रहा है। शाम को लाइट ठीक तरीके से आई तो पानी सप्लाई हो जाएगा। वहीं लोगों को पड़ोस के सबमर्सिबल पंप, हैंडपंप, नलकूप से पानी लेने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

इन प्रमुख एरिया में जलसंकट

पीरोड, प्रेमनगर, सीसामऊ, परमट, बिरहाना रोड, ग्वालटोली, कौशलपुरी, दर्शनपुरवा, हर्ष नगर, आर्य नगर, विजय नगर, शास्त्री नगर, अशोक नगर, काकादेव, रोशन नगर समेत अन्य दर्जनों एरिया में जलसंकट बना हुआ है।

पूरी स्टोरी पढ़िए