एक ही परिवार के लोग निभा रहे रावण का पात्र।

पीलीभीत। क्या आपको पता है कि उत्तर प्रदेश में एक ऐसी जगह भी है जहां पर रामलीला मंचन के दौरान दशहरे वाले दिन रावण का वध नहीं होता है। बल्कि उसके अगले दिन होता है। इतना ही नहीं यहां पर रावण की पूजा होती है, रावण के मंदिर हैं और रावण के नाम पर ही दुकानों का नामकरण हुआ है। उत्तर प्रदेश के पीलीभीत के बीसलपुर में दशहरा के दिन रावण वध का मंचन नहीं होता है।

यहां पर रावण वध का मंचन दशहरा के बाद होता है और अगर उस दिन शनिवार पड़ गया तो रावण दहन तीसरे दिन होगा। बीसलपुर की रामलीला को एक ऐतिहासिक घटना ने रावण वध को विशेष बना दिया। यहां पर एक प्रथा और भी है कि जो पात्र अदा करेगा, उसके परिवार के लोग ही उस पात्र का अदा करते रहेंगे।

तीन-तीन रावण पात्रों की हो चुकी मौत

दरअसल, आज से 35 साल पहले 1987 में बीसलपुर की रामलीला में रावण बने गंगा विष्णु उर्फ कल्लू मल की शनिवार के दिन रावण के वध के दौरान मौत हो गई थी। गंगा विष्णु उर्फ कल्लू मल की मौत के बाद से रामलीला ऐतिहासिक हो गई। रावण बने कल्लू मल को राम रावण के युद्ध के दौरान जब भगवान राम का पात्र स्वरूप द्वारा मारे गये तीर लगते ही राम-राम कहते हुए प्राण त्याग दिये थे। यहां रावण वध से एक नहीं जबकि तीन-तीन रावण पात्रों की मौत हो चुकी है जिसमें एक की मौत तो रावण वध के समय राम का तीर लगते ही हो गई थी। तब से नाटक के दौरान रावण के जब तीर लगता है और जब वो गिर जाता है, उसके बाद जब तक उठ नहीं जाता तब तक के लिए सभी की सांसे थम जाती हैं।

असल में हो चुकी थी मौत

तत्कालीन डीएम और पुलिस अधीक्षक के साथ-साथ लाखों की भीड़ ये समझ रही थी कि अभी भी मंचन चल रहा है, लेकिन असल में रावण बने कल्लू मल की मौत हो गई थी। जो कि बेहद ही चौंका देने वाली बात थी। उसके बाद से यहां की रामलीला प्रसिद्ध हो गई। गंगा विष्णु उर्फ कल्लू मल की मृत्यु के बाद 35 साल हो चुके हैं और अब उनके बेटे दिनेश रावण का किरदार निभाते हैं। कल्लू मल की मौत के बाद से रामलीला ग्राउंड में ही कल्लू स्वरूप दशानन की एक बड़ी मूर्ति लगा दी गई है।   

एक ही परिवार के लोग निभा रहे रावण का पात्र

बीसलपुर की इस रामलीला की एक खास बात ये भी है कि आज तक एक ही परिवार के लोग रावण का पात्र निभाते आ रहे हैं। अब तक लीला मंचन के दौरान मैदान में रावण का अभिनय करने वाले गंगा उर्फ कल्लू मल, अक्षय कुमार और गणेश कुमार की मृत्यु हो गई है। मौके पर मौजूद लोग इस घटना के गवाह बने।

पूरी स्टोरी पढ़िए